Top

पूर्व सैनिकों का फूटा गुस्सा, कहा चाइना की गर्दन उड़ा देंगे

बाराबंकी मुख्यालय पर स्थित पूर्व सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास कार्यालय पर आज पूर्व सैनिकों का गुस्सा देखने को मिला |

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 20 Jun 2020 1:35 PM GMT

पूर्व सैनिकों का फूटा गुस्सा, कहा चाइना की गर्दन उड़ा देंगे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: बाराबंकी मुख्यालय पर स्थित पूर्व सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास कार्यालय पर आज पूर्व सैनिकों का गुस्सा देखने को मिला | इनका गुस्सा गलवान में चीन के द्वारा भारतीय सैनिकों को मौत के घात उतारे जाने को था | इन पूर्व सैनिकों ने चीनी राष्ट्रपति शी- जिनपिंग का पुतला दहन किया और जनता से अपील की कि वह लोग भी चीन में निर्मित वस्तुओ का उपयोग न करें और जो घर में हो उसका भी दहन कर दें |

ये भी पढ़ें:कांग्रेस चलायेगी योगी सरकार के खिलाफ पोल खोलो अभियान: अजय कुमार लल्लू

पूर्व सैनिक वीरेन्द्र प्रसाद एवं जय प्रकाश मिश्रा ने बताया कि चीन ने अपनी उन गलतियों को छुपाने के लिए सैनिकों के प्राणो की आहुति ली है जो उसने संसार में कोरोना फैलाने के लिए की है | हम लोग आम जनता से अपील करते हैं कि वह लोग अपने घरों में जो चीन का सामान हो उसे बाहर निकाल कर ऐसे जलाएं जैसे जिनपिंग को जला रहे हों |

पूर्वसैनिकों ने कहा कि वह भारत सरकार से मांग करते हैं कि भारतीय सेना किये गए समझौते जैसे बात चीत के दौरान हथियार न ले जाना और जानलेवा हमला न करने के समझौते का पालन करते हैं मगर चीन इन समझते का पालन नहीं करते तो उन्हें भी यह छूट दी जाए कि वह भी उन्हें सबक सीखा सकें | देश के राजनेताओं से इन लोगों ने अपील करते हुए कहा कि उनके पास राजनीती करने के लिए कई मुद्दे है उन पर राजनीति करें मगर भारतीय सेना पर न करे |

ये भी पढ़ें:दिल्ली में LG ने 5 दिन का इंस्टीट्यूशनल क्वारनटीन का आदेश लिया वापस

कार्यक्रम में शामिल एक और पूर्व सैनिक हवलदार एम. पी. सिंह चौहान ने बताया कि यह उनका गुस्सा नहीं है बल्कि सीने से निकलता आग का गोला है अभी तो हम सिर्फ पुतला जला रहे हैं मगर आगे से चीन ने ऐसी हरकत की तो उसकी गर्दन धड़ से अलग कर देंगे | हमारी शांति को वह हमारी कमजोरी न समझे |

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story