×

झोलाछाप डाॅक्टरों के भरोसे बस्ती, इलाज के नाम पर खिलवाड़, दर्ज हुआ केस

बस्ती का जिला अस्पताल आए दिन चर्चा का विषय बना रहता है। कुछ दिन पहले भी फर्जी चिकित्सक के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों का इलाज करते हुए पकड़ा गया था, मगर स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों ने मामला रफा दफा कर दिया था।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 23 Feb 2021 6:02 AM GMT

झोलाछाप डाॅक्टरों के भरोसे बस्ती, इलाज के नाम पर खिलवाड़, दर्ज हुआ केस
X
झोलाछाप डाॅक्टरों के भरोसे बस्ती, इलाज के नाम पर खिलवाड़, दर्ज हुआ केस (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

बस्ती: डॉक्टर को धरती का भगवान कहा जाता है लेकिन जब यह भगवान ही फर्जी निकल जाय तो भरोसा किस पर करें। कोई भी पीड़ित रोगी जख्मी मरीज डॉक्टर की एक-एक शब्द पर अमल करता है। क्योंकि उसे उम्मीद होती है कि वह पीड़ा से बाहर आ जायेगा लेकिन जब वह फर्जी हो तो उसके शब्द सही कैसे हो सकते है।

ये भी पढ़ें:भारत में पीएम इमरान की एंट्री, यहां से गुजरेगा विमान, सरकार से मिली इजाजत

बस्ती का जिला अस्पताल आए दिन चर्चा का विषय बना रहता है

बस्ती का जिला अस्पताल आए दिन चर्चा का विषय बना रहता है। कुछ दिन पहले भी फर्जी चिकित्सक के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों का इलाज करते हुए पकड़ा गया था, मगर स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों ने मामला रफा दफा कर दिया था। जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों के शोषण और उनके जीवन से खिलवाड़ अस्पताल के जिम्मेदारों की मिलीभगत से किया जा रहा है। जिला अस्पताल में फर्जी चिकित्सक बन दवा लिखना एक व्यक्ति को उस समय भारी पड़ गया जब।

एक मरीज के परिजनों ने उसे पकड़कर कोतवाली पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने प्रमुख अधीक्षक की तहरीर पर आरोपित के विरुद्ध धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। पहले तो प्रमुख अधिक्षका ने उसे बचाने के लिए भरपूर कोशिश की जब बात नहीं बनी और मामला तूल पकड़ता गया तो मजबूरन मुकदमा दर्ज कराया।

basti-matter basti-matter (PC: social media)

प्रमुख अधीक्षक रोचिष्मती पांडेय की ओर से प्रभारी निरीक्षक कोतवाली को दी गई

प्रमुख अधीक्षक रोचिष्मती पांडेय की ओर से प्रभारी निरीक्षक कोतवाली को दी गई तहरीर में बताया गया है कि कुछ रोगियों के तीमारदारों ने एक व्यक्ति को पकड़ कर उनके समक्ष प्रस्तुत किया। उनकी शिकायत थी कि आरोपित स्वयं को डाक्टर बताते हुए जिला अस्पताल के सर्जिकल वार्ड नंबर-2 और आपरेशन थियेटर के पास रोगियों को दवा लिखी जा रही थी। नाम पूछने पर आरोपित ने बताया कि वह फैसल खान है और कोतवाली क्षेत्र के गांधीनगर में रहता है। प्रमुख अधीक्षक ने बताया कि आरोपित उनके अस्पताल में न तो चिकित्सक है और न ही किसी अन्य पद पर तैनात है।

जनसामान्य के स्वास्थ्य से खिलवाड़ किया जा रहा था

जानकारी करने पर पता चला कि सर्जिकल वार्ड नंबर- 2 में भर्ती मरीज शपन चिता निवासी पिपरागौतम और उनके पुत्र संदीप एवं अन्य उपस्थित लोगों द्वारा आरोपित को पकड़कर उनके समक्ष प्रस्तुत किया गया। बताया कि आरोपित अपने आप को जनता के बीच डाक्टर के रूप में स्थापित कर रोगियों को बिना किसी डिग्री के अनधिकृत रूप से चिकित्सा का कार्य किया जा रहा था। जनसामान्य के स्वास्थ्य से खिलवाड़ किया जा रहा था। इससे अस्पताल की छवि प्रभावित हो रही थी।

ये भी पढ़ें:Pre-Wedding Shoot Destination, यहां फिजाओं में प्यार, हर लम्हा बनेगा यादगार

अपर पुलिस अधीक्षक रविन्द्र सिंह ने बताया

अपर पुलिस अधीक्षक रविन्द्र सिंह ने इस बाबत बताया कि प्रमुख अधीक्षक जिला अस्पताल की तहरीर पर आरोपित के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ के दौरान पता चला है कि आरोपित किसी दवा कंपनी में एमआर है।

रिपोर्ट- अमृत लाल

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story