×

बजट-2020: जिंस कारोबारियों को एसटीटी व सीटीटी में कमी की आशा

संकट में चल रही भारतीय अर्थव्यवस्था के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार-2 का दूसरा बजट पेश करने की तैयारी में हैं। इधर बजट से पहले देश के तमाम व्यापार संगठनों ने सरकार को बजट से अपनी उम्मीदों से वाकिफ करा दिया है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 31 Jan 2020 7:10 AM GMT

बजट-2020: जिंस कारोबारियों को एसटीटी व सीटीटी में कमी की आशा
X
बजट-2020: जिंस कारोबारियों को एसटीटी व सीटीटी में कमी की आशा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ: संकट में चल रही भारतीय अर्थव्यवस्था के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार-2 का दूसरा बजट पेश करने की तैयारी में हैं। इधर बजट से पहले देश के तमाम व्यापार संगठनों ने सरकार को बजट से अपनी उम्मीदों से वाकिफ करा दिया है। अब देखना यह है कि पहली फरवरी को वित्त मंत्री के लाल बस्ते से निकलने वाले बजट दस्तावेजों में व्यापार संगठनों की इन उम्मीदों में से कितनी पूरी होती है।

यह भी पढ़ें: अब लखनऊ की पहचान पर लगेगा ब्रेक,1983 में हर खिलाड़ी को मिला था ये स्कूटर भेंट

बजट में कारोबार की ऊंची लागत को कम करने का अनुरोध

जिंस कारोबारियों के सबसे बड़े संगठन कमोडिटी पार्टिसिपेंट्स ऑफ इंडिया (सीपीएआई) ने सरकार से बजट में कारोबार की ऊंची लागत को कम करने का अनुरोध करते हुए कहा है कि ज्यादा लागत के कारण व्यापार में बहुत गिरावट आई है। बजट से अपनी आस जताते हुए सीपीएआई ने वित्त मंत्रालय को बताया है कि प्रतिभूति लेनदेन कर (एसटीटी) और जिंस लेनदेन कर (सीटीटी) ज्यादा होने के कारण भारत में विभिन्न परिसंपत्तियों में लेन-देन की लागत अमेरिका, चीन और सिंगापुर में लेनदेन की लागत से चार से 19 गुना तक ज्यादा है।

यह भी पढ़ें: एआईपीसी के विजय पांडे ने साथियों के साथ महात्मा गाँधी की पुण्यतिथि पर की बीमारों की तीमारदारी

सरकार से एसटीटी और सीटीटी को समाप्त करने का किया अनुरोध

व्यापार वृद्धि के लिए सीपीएआई ने सरकार से एसटीटी और सीटीटी को समाप्त करने या फिर इसकी दरों में कमी किए जाने का अनुरोध किया है। सीपीएआई ने एसटीटी में आयकर की धारा 88 ई के तहत छूट दिए जाने का निवेदन करते हुए कहा है कि सीटीटी लागू होने के बाद 2013 से जिंस बाजारों में जहां वर्ष 2011- 12 में 69 हजार 449 करोड़ रुपये प्रतिदिन का व्यापार हो रहा था तो वहीं वर्ष 2018- 19 में यह 61 फीसदी की कमी के साथ 27 हजार 291 करोड़ रुपये प्रति दिन हो गया।

यह भी पढ़ें: स्मार्ट मीटर ने लोगों को ठगा, राज्यभर से आ रही है शिकायतें, जानिए क्या…

Shreya

Shreya

Next Story