कैबिनेट मंत्री ने किया अस्पताल का निरीक्षण, अधिकारियों को दिए दिशा निर्देश

दिशा निर्देश देते हुए मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि कोविड-19 मरीजों के इलाज के साथ साथ अन्य गंभीर बीमारियों के मरीजो को भी प्रापर इलाज मिले।

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में शुक्रवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने हैलट अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान प्रशासनिक अधिकारियों के साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे। मंत्री सुरेश खन्ना हैलट अस्पताल पहुंचे उन्होंने इस दौरान हैलट अस्पताल के परिसर का निरीक्षण करते हुए साफ-सफाई को लेकर अधिकारियों को निर्देशित किया। इस दौरान मंत्री सुरेश खन्ना पीपीई किट और फेस शील्ड पहनकर कोरोना वार्ड का भी निरीक्षण किया और इमरजेंसी में उन्होंने छह मरीजों से बात कर उनका हालचाल पूछा और अधिकारियों से बातचीत कर दिशा निर्देश भी दिए।

कोरोना से निपटने के लिए सारी व्यवस्थाएं चौक-चौबंद- सुरेश खन्ना

दिशा निर्देश देते हुए मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि कोविड-19 मरीजों के इलाज के साथ साथ अन्य गंभीर बीमारियों के मरीजो को भी प्रापर इलाज मिले। जिसमें चाहे वो ह्रदय रोग ,ट्रामा ,कैंसर या अन्य किसी भी गम्भीर बीमारी से ग्रसित हों। उन्होंने यहां की सफाई व्यवस्था को भी देखा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए बहुत सी व्यवस्थाएं की हैं। कोरोना के फैलाव को रोकने में काफी सफलता भी मिली है। कोरोना के फैलाव को हर हाल में रोका जाये इसके लिए सरकार लगातार मॉनेटरिंग कर रही है।

ये भी पढ़ें-     सपा के वरिष्ठ नेता राम गोविंद चौधरी ने कहा- शिवपाल सिंह यादव सपा में ही हैं

पूरी दुनिया कोरोना से प्रभावित है। उन्होंने कहा कि हमारा यह उद्देश्य है कि लोगों के मन से कोरोना का भय निकले और उसके बचाव के लिए लोग जागरूक रहें। निरीक्षण के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए मंत्री सुरेश खन्ना ने बताया कि उत्तर प्रदेश में 77 हजार बेड की व्यव्स्था कर दी गई है। कोरोना से निपटने के लिए सारी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद हैं। उन्होंने कहा कि अगर बारिश में भी मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी होती है तो उनके इलाज की व्यवस्था कर ली गई है।

मंत्री ने अधिकारियों को दिए दिशा-निर्देश

ये भी पढ़ें-    चीन भिखारी हो जाएगा: सभी देश मिलकर करने जा रहे ऐसा, ड्रैगन की हालत खराब

इस दौरान मंत्री सुरेश खन्ना ने नॉन कोविड रोगियों की मौत पर अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि सारे मर्ज के गंभीर रोगियों को इलाज मिलेगा। बताया कि कोरोना संदिग्ध रोगियों को पहले होल्डिंग एरिया में रखा जाता है। इसके बाद अगर वो कोरोना पॉजिटिव आते हैं तो उन्हें कोविड अस्पताल में शिफ्ट कर दिया जाता है।

ये भी पढ़ें-    हैरत में पड़ जाएंगे आपः शिक्षिकाएं तैयार कर रही हैं गोबर से सजावटी उत्पाद

पत्रकारों से बातचीत करने के बाद मंत्री सुरेश खन्ना मौके पर मौजूद अधिकारियों से बातचीत करते हुए दिशा निर्देश दिए और फिर कानपुर से झांसी के लिए रवाना हो गए। निरीक्षण के दौरान मंत्री सुरेश खन्ना के साथ मंडलायुक्त सुधीर एम.बोबडे, जिलाधिकारी डॉ.ब्रह्म देव राम तिवारी,मेडिकल कॉलेज प्राचार्य समेत अन्य संबंधित डॉक्टर उपस्थित रहे।

अवनीश कुमार