जनगणना 2021 : जन जन की भागीदारी के महा अभियान का हुआ श्रीगणेश

जनगणना 2021 के लिए मास्टर ट्रेनर्स के प्रशिक्षण का कार्यक्रम सोमवार को लखनऊ में आरंभ हो गया। कार्यक्रम का उद्घाटन एल. वेंकटेश्वर लू, दीन दयाल उपध्याय ग्राम्य विकास संस्थान, लखनऊ, डॉ. हरिओम, सचिव सामान्य प्रशासन एवं नरेन्द्र शंकर पाण्डेय, निदेशक जनगणना कार्य उत्तर प्रदेश ने किया।

लखनऊ। जनगणना 2021 के लिए मास्टर ट्रेनर्स के प्रशिक्षण का कार्यक्रम सोमवार को लखनऊ में आरंभ हो गया। कार्यक्रम का उद्घाटन एल. वेंकटेश्वर लू, दीन दयाल उपध्याय ग्राम्य विकास संस्थान, लखनऊ, डॉ. हरिओम, सचिव सामान्य प्रशासन एवं नरेन्द्र शंकर पाण्डेय, निदेशक जनगणना कार्य उत्तर प्रदेश ने किया।

आगामी जनगणना 2021 के तहत मकान सूचीकरण, मकानों की गणना तथा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को अद्यतन यानी अपडेट करने के कार्य किये जाएंगे। इस अवसर पर श्री नरेंद्र शंकर पाण्डेय ने कहा कि जनगणना एवं राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर अपडेट रहने से देश के विकास की दिशा तय होती है। जनगणना के महत्व को समझते हुए ही जनगणना अधिनियम 1948 को देश में लागू किया गया जिसके तहत जनगणना संबंधी कार्य होते हैं।

इसे भी पढ़ें-

पराली जलाने पर रोक लगाने के लिए योगी सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू

उन्होंने कहा कि जनगणना कार्य में यदि कोई गड़बड़ी पायी गयी या कोई जनगणना संबंधी किसी कार्य को बाधित करता है तो जनगणना अधिनियम के अंतर्गत सजा का प्रावधान है। प्रथम चरण के प्रशिक्षण में अनुपस्थित अधिकारियों के विरुद्ध जनगणना अधिनियम 1948 के अंतर्गत सुसंगत धारा में अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है। इस सम्बन्ध में सम्बंधित जिलाधिकारियों को मामला संदर्भित कर रिपोर्ट मांगी गयी है।

पांच लाख लोगों की टीम जुटेगी

उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि, डॉ. हरिओम ने इस अवसर पर कहा कि जनगणना का कार्य केन्द्र एवं राज्य सरकार के सामूहिक प्रयास से पूरा किया जाएगा। उत्तर प्रदेश राज्य में लगभग 5 लाख प्रगणक एवं पर्यवेक्षक जनगणना 2021 कार्य के लिए लगाए जाएंगे जोकि राज्य प्रशासन की देखरेख में अपना कार्य पूर्ण करेंगे। डॉ हरिओम ने कहा कि जनगणना को जन-जन की भागीदारी से जोडा जाये तथा इसे जन-अभियान बनाया जाये ताकि जनगणना के सही आंकड़े प्राप्त हो सकें।

अध्यक्षीय उद्बोधन में एल. वेंकटेश्वर लू ने कहा कि जनगणना कार्य में अनेक अवरोध आएंगे परन्तु मास्टर ट्रेनर्स को देश के विकास में अपनी भूमिका के महत्व को ध्यान में रखते हुए अपने दायित्वों का ईमानदारी से निर्वहन करते हुए जनगणना कार्य को सफलतापूर्वक सम्पन्न करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें-

यह मोदी की सरकार नहीं अंबानी और अडाणी की सरकार है: राहुल गांधी

ये है पूरा कार्यक्रम

इससे पूर्व दीन दयाल उपाध्याय ग्राम्य विकास संस्थान, लखनऊ में 6 दिवसीय राज्य स्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के द्वितीय चरण का उद्घाटन किया गया। इस कार्यक्रम के द्वितीय चरण में उत्तर प्रदेश राज्य के 29 जिलों से आए हुए 90 मास्टर ट्रेनर्स को प्रशिक्षित किया जा रहा है । इसके बाद 16 दिसंबर 2019 से 21 दिसंबर 2019 तक आयोजित तीसरे एवं अंतिम चरण में शेष 17 जिलों के 60 मास्टर ट्रेनर्स को प्रशिक्षित किया जाएगा। इस प्रकार उत्तर प्रदेश राज्य के समस्त 75 जिलों के 240  मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण 21 दिसंबर 2019 तक पूर्ण कर लिया जायेगा।

इस अवसर पर श्री प्रदीप कुमार, उप महारजिस्ट्रार, ने कहा कि जनगणना कार्य निदेशालय द्वारा राज्य के जनगणना कार्य में संलग्न प्रत्येक व्यक्ति को पूर्ण सहयोग प्रदान किया जाएगा। डॉ. डी. सी. उपाध्याय, अपर निदेशक एसआईआरडी ने इस कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले सभी अधिकारियों एवं प्रतिभागियों को धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

कार्यक्रम का संचालन ए. के. राय, उप निदेशक जनगणना एवं बी. डी. चौधरी, उप निदेशक द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम में डॉ एस. एस. शर्मा, उप निदेशक, अरुण कुमार, उप निदेशक, संतोष कुमार मिश्रा, उप निदेशक, डॉ. गौरव कुमार पाण्डेय, सहायक निदेशक, एन. सी. त्रिपाठी, परामर्शदाता, हेमेन्द्र शर्मा, राष्ट्रीय प्रशिक्षक, डॉ. योगेन्द्र कुमार,  सहायक निदेशक,  उमेश चन्द्र जोशी , एस के पाण्डेय, हेमंत मिश्र , संतोष कुमार, सांख्यिकीय अन्वेषक, शशिकांत शुक्ला, सांख्यिकीय अन्वेषक, गोविंद कुमार, सांख्यिकीय अन्वेषक सहित अन्य  गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।