पराली जलाने पर रोक लगाने के लिए योगी सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

उच्चतम न्यायालय के आदेशों के बाद भी प्रदेश के कुछ जिलों से पराली के अवशेष जलाएं जाने की घटनाओं को लेकर प्रदेश सरकार ने कड़े कदम उठाये हैं। शासन मान रहा है की कड़ाई के बाद भी पराली जलाये जाने का काम किया जा रहा है।

लखनऊः उच्चतम न्यायालय के आदेशों के बाद भी प्रदेश के कुछ जिलों से पराली के अवशेष जलाएं जाने की घटनाओं को लेकर प्रदेश सरकार ने कड़े कदम उठाये हैं। शासन मान रहा है की कड़ाई के बाद भी पराली जलाये जाने का काम किया जा रहा है। इसी को देखते हुए अब सरकार ने कड़ा कदम उठाया हैं।

ये भी पढ़ें…अंबाला में पराली जला रहे किसानों से 1.30 लाख जुर्माना वसूला गया

अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने उक्त जानकारी देते हुए आज यहां बताया है कि शासन द्वारा इसे अत्यन्त गम्भीरता से लेते हुए कड़ा रूख अपनाया गया है।

इस संबंध में प्रदेश के 26 जिलों के पुलिस कप्तानों से शासन द्वारा 3 दिसम्बर 2019 तक जवाब मांगा गया है। शासन द्वारा इन पुलिस कप्तानों को विगत वर्ष 1 अक्टूबर से 25 नवम्बर तक तथा इस वर्ष उक्त अवधि में पराली/अवशेष जलाये जाने की घटनाओं की सूची भी भेजी गयी है।

यह जनपद हैं शामली, मेरठ, बुलन्दषहर, गौतमबुद्वनगर, बागपत, हापुड़, आगरा, फिरोजाबाद, हाथरस, कासीराम नगर, बदायू, मुरादाबाद, ज्योतिबाफूलेनगर, संभल, कानपुरदेहात, फर्रूखाबाद, कन्नौज, ललितपुर, बांदा, हमीरपुर, महोबा, चित्रकूट, भदोही, अमेठी, जालौन तथा रामपुर है।

ये भी पढ़ें…पंजाब और हरियाणा पराली जलाने से लोगों को क्यों नहीं रोकते- केजरीवाल

पराली जाने पर 5 किसानों पर अर्थदंड

कप्तानगंज तहसील क्षेत्र के पांच किसानों पर अर्थदंड जलाने के जुर्म में ढाई-ढाई हजार का अर्थदंड लगाया गया है। इसके अलावा एक किसान के खिलाफ कप्तानगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराया गया है।

शनिवार को हुई इस कार्रवाई से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। यह कार्रवाई एसडीएम व एसओ ने क्षेत्र के भ्रमण के दौरान पराली जलाने का मामला पकड़ में आने पर किया।

एसडीएम अरविंद कुमार और एसओ अनुज कुमार सिंह शनिवार को क्षेत्र में पराली जलाने के मामले की निगरानी के लिए निकले थे। इस दौरान सुधियानी गांव में चार किसानों के खेत में पराली जलाने का मामला सामने आया। पराली की राख खेत में ही पड़ी थी।

इसके अलावा बेलभद्र छपरा गांव में एक किसान के खेत में पराली जलाई जा रही थी, जबकि एक के खेत में कुछ देर पहले ही जलाने के अवशेष मिले। इसके आधार पर सुधियानी गांव के किसान डोमा पुत्र विरधुन, रामकिशुन पुत्र सुंदर, अजीमुल्लाह पुत्र शेखावत व रामनगीना तथा बेलभद्र छपरा गांव निवासी अखिलेश के खिलाफ ढाई-ढाई हजार का अर्थदंड लगाया गया है।

इसके अलावा बेलभद्र छपरा गांव के किसान जयगोविंद सिंह के खिलाफ कप्तानगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है। एसडीएम ने बताया कि इस मामले की नियमित निगरानी कराई जा रही है।

ये भी पढ़ें…एक बार फिर से धुंध में NCR व दिल्ली, इतना बढ़ गया आज एक्यूआई लेबल