×

झण्डा दिवस: शहीदों को किया गया याद, मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी रहे मौजूद

इस अवसर पर सशस्त्र सेना झण्डा दिवस के अवसर पर आज निदेशक सैनिक कल्याण एवं पुर्नवास बिग्रेडियर (अ.प्रा.) रवि ने मुख्य सचिव को प्रतीक चिन्ह झण्डा लगाया तथा स्मृति चिन्ह व शाल भेंट कर उनका सम्मान किया।

Newstrack
Published on 7 Dec 2020 10:39 AM GMT
झण्डा दिवस: शहीदों को किया गया याद, मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी रहे मौजूद
X
झण्डा दिवस: शहीदों को किया गया याद, मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी रहे मौजूद (PC: social media)
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने अमर शहीदों तथा वीर सैनिकों को उनके अपूर्व त्याग एवं बलिदान को याद करते हुए उन्हें नमन किया। उन्होंने कहा कि हमारे मां स्वरूप देश की रक्षा में जिस प्रकार हमारी सेना दिन-रात लगी हुई है। उसका कोई भी मूल नहीं चुकाया जा सकता है। हम सभी उनके सतत ऋणी हैं। उन्होंने सेना के प्रति पूर्ण सम्मान, स्नेह व सद्भावना व्यक्त करते हुए उनके परिवार के सुखद जीवन की कामना की।

ये भी पढ़ें:कृषि कानून वापस लो, नहीं तो कुर्सी छोड़ दो- मेदिनीपुर की रैली में बोलीं ममता बनर्जी

झण्डा लगाया तथा स्मृति चिन्ह व शाल भेंट कर उनका सम्मान किया

इस अवसर पर सशस्त्र सेना झण्डा दिवस के अवसर पर आज निदेशक सैनिक कल्याण एवं पुर्नवास बिग्रेडियर (अ.प्रा.) रवि ने मुख्य सचिव को प्रतीक चिन्ह झण्डा लगाया तथा स्मृति चिन्ह व शाल भेंट कर उनका सम्मान किया।

lko Chief Secretary Rajendra Kumar Tiwari (PC: social media)

उल्लेखनीय है कि शहीद, सेवारत, पूर्व सैनिकों एवं युद्ध में विकलांग सैनिकों के प्रति सम्मान एवं कृतज्ञता प्रदर्शित करने तथा सैनिकों के आश्रितों के लिए चलाई जाने वाली विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के निहित धनराशि एकत्रित करने के लिए प्रतिवर्ष 7 दिसम्बर को सशस्त्र झण्डा दिवस मनाया जाता है। इस वर्ष पूरे दिसम्बर माह को ''गौरव माह'' के रूप में मनाया जा रहा है। सशस्त्र सेना झंडा दिवस या झंडा दिवस भारतीय सशस्त्र बलों के कर्मियों के कल्याण के लिए देष की जनता से धन-संग्रह के प्रति समर्पित एक दिन है। यह 1949 से 7 दिसम्बर को भारत में प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

सशस्त्र सेना झंडा दिवस पर हुए धन संग्रह के तीन मुख्य उद्देश्य है पहला. युद्ध के समय हुई जनहानि में सहयोग,दूसरा सेना में कार्यरत कर्मियों और उनके परिवार के कल्याण और सहयोग के लिए तथा तीसरा, सेवानिवृत्त कर्मियों और उनके परिवार के कल्याण के लिए।

Chief Secretary Rajendra Kumar Tiwari Chief Secretary Rajendra Kumar Tiwari (PC: social media)

ये भी पढ़ें:किसान आंदोलन: अब समर्थन में उतरी मायावती, केंद्र पर साधा निशाना

इस दिन धन-संग्रह सशस्त्र सेना के प्रतीक चिन्ह झंडे को बाँट कर किया जाता है। इस झंडे में तीन रंग (लाल, गहरा नीला और हल्का नीला) तीनों सेनाओं को प्रदर्शित करते है।इस अवसर पर प्रमुख सचिव समाज कल्याण एवं सैनिक कल्याण बी.एल. मीणा, मेजर जनरल नीलेन्द्र कुमार, प्रबन्ध निदेशक पूर्व सैनिक कल्याण निगम, विंग कमाण्डर (अ.प्रा.) श्याम किशोर पाण्डेय, अतिरिक्त निदेशक श्रीमती रेखा राॅय आदि उपस्थित थे।

रिपोर्ट- श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story