Top

यूपी में कोरोना के 1032 नये केसः अब सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं, होगा वैक्सीनेशन

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने लोक भवन में बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,44,839 सैम्पल की जांच की गयी।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 26 March 2021 2:28 PM GMT

यूपी में कोरोना के 1032 नये केसः अब सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं, होगा वैक्सीनेशन
X
वैक्सीनेशन को लेकर बड़ी खबर: एक अप्रैल से इनको भी लगेगा टीका, होगा फायदा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना का दायरा दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है। सरकार के लाख प्रयास के बाद भी लोग मास्क लगाने में हीलाहवाली कर रहे हैं। जबकि प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। इसको देखते हुए अब आगामी एक अप्रैल से 45 से 60 वर्ष के आयु के सभी लोग कोविड वैक्सीनेशन लगवाने के लिए पात्र होंगे, यह शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रो में दोनों जगह लागू होगा। इसमें किसी प्रकार की बिमारी के सर्टिफिकेट दिखाने की आवश्यकता नहीं है। पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 1032 नये मामले आये हैं। अब तक 5,824 कोरोना के एक्टिव मामले में से 3,388 लोग होम आइसोलेशन में हैं।

एक दिन में 1,44,839 सैम्पल की हुई जांच

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने लोक भवन में बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,44,839 सैम्पल की जांच की गयी। जिसमें 71,500 से अधिक जांचे आर.टी.पी.सी.आर के माध्यम से की गयी हैं। प्रदेश में अब तक कुल 3,42,60,584 सैम्पल की जांच की गयी है।

ये भी पढ़ें: भयंकर हादसाः दो ट्रेनों में भीषण टक्कर, 32 लोगों की बिछ गई लाशें

उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 1032 नये मामले आये हैं। प्रदेश में 5,824 कोरोना के एक्टिव मामले में से 3,388 लोग होम आइसोलेशन में हैं। इसके अतिरिक्त मरीज निजी चिकित्सालयों एवं सरकारी अस्पतालों मंे अपना ईलाज करा रहे हंै। प्रदेश में कोविड-19 से रिकवरी का प्रतिशत 97.6 है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 5,96,698 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,87,516 क्षेत्रों में 5,14,343 टीम दिवस के माध्यम से 3,15,79,824 घरों के 15,32,79,450 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि इस समय कई प्रांतों में संक्रमण के केस बढ़ रहे हैं, जिससे प्रदेश में विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। लोग अपने हाथ को साबुन पानी से बार-बार सेनेटाइज करते रहें, तथा मास्क का प्रयोग अवश्य करें।

इतने लोग ले चुके हैं वैक्सीन को डोज

उन्होंने बताया कि अब तक कुल 43,93,802 लोग टीके की पहली डोज ले चुके है। 10,09,111 व्यक्तियों ने टीके की दूसरी डोज भी लगायी जा चुकी है। अब तक कुल 54,01,913 कोविड वैक्सीनेशन का टीकाकरण किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में आज भी टीकाकरण का कार्य चल रहा है। सभी मेडिकल कालेज, जिला चिकित्सालय, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर सोमवार से शनिवार तक कोविड वैक्सीनेशन का टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अप्रैल के महीने में इसके अतिरिक्त कुछ जो हमारे हेल्थ एण्ड वैल्सनेस सेंटर जो स्वास्थ्य केन्द्रों को हेल्थ एण्ड वैल्सनेस सेंटर के रूप में अपग्रेड किया गया है। वहां भी कुछ केन्द्रों में हेल्थ एण्ड वैल्सनेस सेंटर में टीकाकरण का कार्य प्रारम्भ किया जायेगा।

प्रसाद ने बताया कि टीकाकरण करवाने से आप लोग सुरक्षित हो जाते है और कहीं-कहीं पर यह देखने में आया है कि टीकाकरण से भी कुछ लोगों संक्रमित हो गये है। अगर संक्रमित हो भी जाते है तो गंभीर समस्या नहीं होगी, इसलिए टीकाकरण करवाना अत्यंत आवश्यक है। किसी प्रकार के अफवाह व गलत सूचना से बचे उस पर विश्वास नहीं करना चाहिए और टीकाकरण करवाना बेहद जरूरी है।

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी की जब हुई गिरफ्तारी, बोले- बांग्लादेश के लिए मैंने भी किया ऐसा

दोनों वैक्सीन प्रभावशाली व सुरक्षित

उन्होंने बताया कि दो तरह की वैक्सीन का उपयोग किया जा रहा है। दोनों ही वैक्सीन प्रभावशाली व सुरक्षित है। पहला नाम है को-वैक्सीन, दूसरा नाम है कोविड-शील्ड। जिन लोगों ने को-वैक्सीन लगवायी है, उनकी दूसरी डोज चार सप्ताह के बाद लगायी जा रही थी। पहले जो लोग कोविड शील्ड लगवा रहे थे। उनकी भी दूसरी डोज चार सप्ताह के बाद लगायी जा रही थी। लेकिन अब भारत सरकार की एडवाजरी आयी है, कि कोविड शील्ड को 4-8 सप्ताह के बीच लगाया जा सकता है तथा दूसरी डोज को 6 से 8 सप्ताह के बीच लगाया जाये तो इसका प्रभाव अधिक होगा। जिनको अब कोविड शील्ड लगाया जायेगा, उनको अब दूसरी डोज की तारीख 06 सप्ताह के बाद देंगे।

प्रसाद ने बताया इस समय बहुत ज्यादा सावधानी की आवश्यकता है होली के अवसर पर हम लोग संयम होकर त्यौहार मनाये, भीड-भाड़ वाले इलाकों मंे जाने बचे और हम कोशिश करे कि हम लोग किसी भी प्रकार सार्वजनिक व बड़े आयोजन से बचे। सरकार के द्वारा स्पष्ट निर्देश है कि कोई भी सार्वजनिक कार्यक्रम इत्यादि बिना जिला प्रशासन की अनुमति के नहीं किये जायेंगे और जो लोग सामाजिक दूरी व मास्क का प्रयोग नहीं करेंगे उनके खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही की जायेगी। अन्य प्रांतों से आने वाले सभी व्यक्तियों से अपील की है कि वे घर जाने से पहले कोविड-19 की जांच अवश्य करायें और उसके बाद ही अपने घर के लिए प्रस्थान करें।

श्रीधर अग्निहोत्री

Newstrack

Newstrack

Next Story