बड़े हमले की साजिश में थे ये आतंकी, पुलिस ने किया गिरफ्तार

आतंकवाद एक ऐसा मुद्दा है जो शायद कभी खत्म नहीं होगा। आए-दिन बताया जाता है यहां आतंकी पकड़ा गया या वहां पकड़ा गया।

लखनऊ: आतंकवाद एक ऐसा मुद्दा है जो शायद कभी खत्म नहीं होगा। आए-दिन बताया जाता है यहां आतंकी पकड़ा गया या वहां पकड़ा गया। ऐसी ही खबर आतंकी मौलाना असीम उमर की जो हाल ही में अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना द्वारा ज्वाइंट ऑपरेशन में मारा गया था। इसका कनेक्शन उत्तर प्रदेश से बताया जा रहा।

ऐसा पता चलते ही सुरक्षा एजेंसियां सक्रिय है। देवबंद में UP-ATS ने 11 अक्टूबर शुक्रवार को दबिश दी तो वहीं पुलिस ने लखीमपुर से 4 संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया है।

ये भी देखें:अपने पहले प्यार को इसलिए नहीं भूल पाते लोग, ये है वजह

आज की कार्रवाई को देवबंद हुई असीम उमर के मारे जाने के बाद की गतिविधियों से जोड़ा जा रहा है। फ़िलहाल कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। वहीं, लखीमपुर ज़िले से गिरफ्तार किए गए चार संदिग्धों से पूछताछ जारी है। खबरों की मानें तो आरंभिक जांच से इन आतंकियों का भी बड़ा नेटवर्क का पता चला है।

अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना द्वारा मारे गए मौलाना असीम उमर का कनेक्शन यूपी के संभल से निकला था। ऐसा बताया जा रहा है कि उमर 1998 से लापता था। उमर के घरवालों के बताया था कि उमर 1993 में देवबंद में पढ़ने गया था, जिसके बाद से उमर को लेकर लगातार देवबंद में सुरक्षा एजेंसियां सक्रिय है।

ये भी देखें:मच गया हड़कंप! समुद्र से निकला खतरनाक आतंकी ‘ओसामा बिन लादेन’…

इस घटना से जुड़ा एक पुराना रिकॉर्ड भी सामने आया है। दरअसल, स्पेशल सेल ने मो। आसिफ नाम के एक आतंकी को दिसम्बर 2015 मे गिरफ्तार किया था। साल 2016 में दिल्ली कोर्ट में दाखिल चार्ज शीट में स्पेशल सेल ने 17 लोगों का जिक्र किया था, जिसमें संभल से असीम उमर के अलावा 5 और लोगों का जिक्र था। पुलिस के मुताबिक, इन 17 लोगों के अलकायदा जैसे आतंकी संगठन से सीधे तार जुड़े हुए हैं।

2015 से 2016 के बीच में 17 में से पांच आतंकियों को देश के अलग-अलग हिस्सों से गिरफ्तार कर लिया गया था, जिसमे दो आतंकी मो। आसिफ और जफर मसूद भी शामिल थे।

ये भी देखें:देश की सबसे पुरानी पार्टी भयावह दलदल में, बेहाल कांग्रेस का संकटग्रस्त भविष्य

जानिए कहां हुई चार पत्रकारों की गिरफ्तारी?

सुरक्षाकर्मियों के अनुसार, असीम उमर सहित 4 आतंकी फरार चल रहे थे। कोर्ट ने चारों के खिलाफ गैर जमानती वॉरेंट भी तामील किया था। असीम उमर के अफगानिस्तान में मारे जाने के बाद सुरक्षा एजेंसियों को संभल से तीन लापता संदिग्ध आतंकियों की अभी भी तालाश है। तीन लापता युवकों मे सईद अख्तर, शरजील अख्तर और उस्मान शामिल बताए जा रहे हैं।