×

मिले लाखों पुराने नोट: गायत्री प्रजापति का बचना मुश्किल, चल रही छापेमारी

खनन मंत्री रहे चुके गायत्री प्रजापति की मुश्किलें तो दिन-प्रति-दिन बढ़ती ही जा रही हैं। पिछले दिन खनन घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय(ED) ने गायत्री प्रजापति के अमेठी में स्थित घर पर ताबड़तोड़ छापेमारी की थी। इस छापेमारी में ईडी को 11 लाख रूपये के पुराने नोट बरामद हुए थे।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 31 Dec 2020 5:56 AM GMT

मिले लाखों पुराने नोट: गायत्री प्रजापति का बचना मुश्किल, चल रही छापेमारी
X
बीते दिन यानी बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय ने सपा सरकार में मंत्री रह चुके गायत्री प्रजापति के अमेठी के आवास और ऑफिस पर छापेमारी की थी।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: यूपी में समाजवादी पार्टी की सरकार में रूतबेदार खनन मंत्री रहे चुके गायत्री प्रजापति की मुश्किलें तो दिन-प्रति-दिन बढ़ती ही जा रही हैं। पिछले दिन खनन घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय(ED) ने गायत्री प्रजापति के अमेठी में स्थित घर पर ताबड़तोड़ छापेमारी की थी। इस छापेमारी में ईडी को 11 लाख रूपये के पुराने नोट बरामद हुए थे। साथ ही ईडी को 5 लाख रुपये के सादे स्टाम्प पेपर, डेढ़ लाख रुपये कैश और 100 से अधिक बेनामी संपत्तियों के दस्तावेज़ भी मिले हैं।

ये भी पढ़ें... गायत्री प्रजापति पर आफत: ED के सामने मैनेजर का खुलासा, बताया जान को खतरा

छापेमारी काफी लंबे समय तक चली

असल में बीते दिन यानी बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय ने सपा सरकार में मंत्री रह चुके गायत्री प्रजापति के अमेठी के आवास और ऑफिस पर छापेमारी की थी। इस खनन घोटाले के संबंध में ईडी द्वारा ये छापेमारी काफी लंबे समय तक चली। ईडी को छापेमारी के दौरान कई दस्तावेज मिले हैं।

बता दें, ईडी को छापेमारी में जो दस्तावेज मिले हैं, उनसे पता चलता है गायत्री प्रजापति की लखनऊ, कानपुर, मुंबई, सीतापुर सहित 6 से ज्यादा शहरों में संपत्ति है। साथ ही दावा है कि यह सारी संपत्ति खनन की कमाई से बनाई गई है।

Gayatri Prajapati फोटो-सोशल मीडिया

ये भी पढ़ें...गायत्री प्रजापति की बढ़ीं मुश्किलें: SC ने अंतरिम जमानत पर लगाई रोक, हैं ये आरोप

कई बेनामी संपत्तियों में निवेश

ऐसे में प्रवर्तन निदेशालय के खुलासे के मुताबिक, कई बेनामी संपत्तियों में निवेश किया गया है और यह बेनामी संपत्तियां करीबी रिश्तेदारों, निजी सहायकों और ड्राइवरों के नाम पर ली गई हैं।

फिलहाल को गायत्री प्रजापति अभी रेप के मामले में जेल की सलाखों के पीछे हैं। वहीं खनन के पट्टों के आवंटन मे धांधली के आरोप में उनके खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई की जांच भी उनपर चल रही है। ऐसे में इस जांच के सिलसिले में गायत्री प्रजापति और उनके करीबियों पर कई बार छापेमारी की जा चुकी है।

ये भी पढ़ें...सेशन कोर्ट ने गायत्री प्रजापति की रिवीजन अर्जी खारिज की

Newstrack

Newstrack

Next Story