Top

अच्छी खबर: UP में खूब बढ़ेगा निर्यात, जल्द आएगी ये पाॅलिसी

उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि प्रदेश को विश्व का ग्लोबल सप्लाई चेन बनाने के लिए ठोस कार्य योजना तैयार कराई जा रही है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 29 July 2020 5:35 PM GMT

अच्छी खबर: UP में खूब बढ़ेगा निर्यात, जल्द आएगी ये पाॅलिसी
X
लखनऊ के मोहनलालगंज में स्थापित होगा माटी कला: मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि प्रदेश को विश्व का ग्लोबल सप्लाई चेन बनाने के लिए ठोस कार्य योजना तैयार कराई जा रही है। इसके लिए शीघ्र ही नई निर्यात पालिसी लाई जायेगी। इस नीति के दो पहलू होंगे। जिसका पहला चरण शार्ट टर्म होगा।

इसके तहत टेक्सटाइल्स, गारमेंट, फुटवेयर, मशीनरी पार्ट, कारपेट, हैण्डलूम तथा हैण्डीक्राफ्ट आदि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा दिया जायेगा। इसी प्रकार दूसरी लांग टर्म पालिसी होगी, इसके माध्यम से इलेक्ट्रानिक्स, फूड प्रोसेसिंग, केमिकल्स आदि के निर्यात को प्रोत्साहित किया जायेगा।

ये भी पढ़ें: राजस्थान सियासी संकट की गुत्थी और उलझी, राज्यपाल ने बढ़ाईं गहलोत की मुसीबतें

प्रदेश में माटी कला बोर्ड का गठन

सिंह ने यह जानकारी आज खादी भवन में ग्लोबल सप्लाई चेन बढ़ाने के संबंध में आयोजित बैठक में दी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में चीन से विश्व में 10 मिलियन डालर सिरेमिक (चीनी मिट्टी से बने उत्पाद) का निर्यात होता। सिरेमिक का 80 फीसदी ग्लोबल मार्केट चीन के पास है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में एक जिला-एक उत्पाद (ओडीओपी) में सिरेमिक शामिल है। इस व्यवसाय को बढ़ाने के लिए प्रदेश में माटी कला बोर्ड का गठन भी किया गया है।

एमएसएमई मंत्री ने कहा कि चीन विश्व में 9 मिलियन डालर का टेक्सटाइल्स एक्सपोर्ट करता है, जो विदेश में होने वाले आयात को 77 फीसदी है। विश्व में फुटवेयर के निर्यात में भी चीन की 57 फीसदी हिस्सेदारी है, चीन से प्रतिवर्ष लगभग 16 बिलियन डालर का निर्यात हो रहा है। इसके अलावा चीन से इलेक्ट्रानिक्स के क्षेत्र में 66 फीसदी हिस्सेदारी के साथ 96 बिलियन डालर का एक्सपोर्ट होता है।

ये भी पढ़ें: सुशांत सुसाइड केस: महाराष्ट्र सरकार ने सीबीआई जांच की मांग ठुकराई, बताई ये वजह

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि राजनैतिक उथल-पुथल के कारण विश्व में चाइना का मार्केट शेयर कम होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि चीन से जिन उत्पादों का निर्यात होता है, वे उत्पाद उत्तर प्रदेश में भी उपलबध है। विश्व में चीन का मार्केट शेयर कम होने पर उत्तर प्रदेश से निर्यात बढ़ाने के लिए पीडब्लयूसी इसमें मदद करेंगी। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के घरेलू बाजार को वैश्विक मार्केट में प्रतिस्पर्धी बनाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। उत्पादों की क्वालिटी बढ़ाने, पैकेजिंग को आकर्षक करने तथा ब्रांडिंग पर विशेष बल दिया गया है। इसके लिए प्रत्येक जनपद में सीएफसी की स्थापना भी कराई जा रही है।

ये भी पढ़ें: कांग्रेस के इस दिग्गज नेता ने कहा-सभी दलों के नेता राम मंदिर भूमि पूजन में हो शामिल

Newstrack

Newstrack

Next Story