गोरखपुर: मार्केट में आया पैसा कमाने का नया तरीका, खाली बोतलें भरेगी जेब

रिवर्स वेंडिंग मशीन पर्यावरण को बचाने में करेगी मदद, जी हां प्रदेश में पहला मशीन लगा गोरखपुर में, सीएम सिटी में पहला लगाया गया ये मशीन, इस मशीन के जरिये बेकार खराब बोतल को क्रश करके दोबारा रिसाइकिल करके बाराबंकी फैक्ट्री में भेज दिया जाता है। जहा से उसे फिर से रिसाइकिल कर दिया जाता है।

गोरखपुर: रिवर्स वेंडिंग मशीन पर्यावरण को बचाने में करेगी मदद, जी हां प्रदेश में पहला मशीन लगा गोरखपुर में, सीएम सिटी में पहला लगाया गया ये मशीन, इस मशीन के जरिये बेकार खराब बोतल को क्रश करके दोबारा रिसाइकिल करके बाराबंकी फैक्ट्री में भेज दिया जाता है। जहा से उसे फिर से रिसाइकिल कर दिया जाता है।

रेलवे स्टेशन के सामने लगाई गई, रिवर्स वेंडिंग मशीन में प्लास्टिक की बोतल डालकर क्रश करने पर प्रति बोतल 50 पैसे हासिल किया जा सकेगा। बोतल क्रश करने वाले को पेटीएम के जरिए ये पैसा मिलेगा।

ये भी देखें:शीला के निधन से शोक में डूबा हिंदुस्तान, पीएम मोदी सहित इन्होंने किया ट्वीट

इंडिया ग्लाईकाल्स लिमिटेड द्वारा लगाई गई। इस मशीन में बोतल क्रश होने के बाद जो प्लास्टिक चिप्स बनेगा,उसे रिलायंस इंडस्ट्रीज बाराबंकी द्वारा रिसाइकिल किया जाएगा, इससे बोतल, मैट्रेस, झोले तथा अन्य उत्पाद तैयार किये जाएंगे, आप को बता दे, कि महापौर सीताराम जायसवाल ने इस मशीन का शुभारंभ किया। सडको पर फेके बोतल को लोग क्रश करेंगे। जिससे गंदगी नहीं होगी।

ये भी देखें:शीला दीक्षित: पंजाब की बिटिया ने यूपी से सीखी राजनीति, दिल्ली ने दिया ताज

यूपी डिस्टिलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष व इंडिया गलाईकाल्स के बिजनेस हेड एसके शुक्ला ने कहा कि रिवर्स वेंडिंग मशीन से पेट बोतलों का सुरक्षित निपटान किया जा सकेगा। इस अवसर पर नगर आयुक्त अंजनी कुमार सिंह, पार्षद देवेन्द्र कुमार गौड़ व अजय राय, पिपराइच के चेयरमैन जितेन्द्र जायसवाल, जिला पार्षद संघ के अध्यक्ष रमजान अली आदि उपस्थित रहे।

ये भी देखें:3 महीने में इन 133 गांवों में 216 बेटों का हुआ जन्म, एक भी बेटी नहीं हुई पैदा

यूपी में ये पहला मशीन सीएम सिटी में लगाया गया है। इस मशीन के जरिये अब बोतल को क्रस किया जा सकता है।एक बार में ये 25 सौ बोतल को क्रस कर सकती है, और बोतल क्रस करने वालो को प्रति बोतल 50 पैसा मिलेगा, यानी आम के आम गुठलियों के दाम, अब ये रिवर्स वेंडिंग मशीन पर्यावरण के को संतुलित करने में काफी कारीगर साबित होने वाली है।