भारत का एक ऐसा इलाका जहां सिर्फ बेटे ही बेटे हो रहे हैं पैदा

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले से एक चौकाने वाली खबर सामने आई है। जिले के 133 गांवों में पिछले 3 महीनों में 216 बच्चों का जन्म हुआ है, लेकिन इनमें एक भी बच्ची का जन्म नहीं हुआ है। ऐसी सूचना मिलने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने संज्ञान लेते हुए इसकी वास्तुस्थिति का पता लगाने का अधिकारियों को निर्देश दिया है।

देहरादून: उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले से एक चौकाने वाली खबर सामने आई है। जिले के 133 गांवों में पिछले 3 महीनों में 216 बच्चों का जन्म हुआ है, लेकिन इनमें एक भी बच्ची का जन्म नहीं हुआ है। ऐसी सूचना मिलने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने संज्ञान लेते हुए इसकी वास्तुस्थिति का पता लगाने का अधिकारियों को निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने माना कि ये आंकड़े चौकाने वाले हैं। यह सरकार के ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के लिए भी चिंताजनक है।

यह भी पढ़ें…स्वतंत्र देव सिंह ने भाजपा कार्यालय में सोनभद्र मामले में की प्रेस कॉन्फ्रेंस, देखें तस्वीरें

उत्तरकाशी जिले में 3 महीने में 133 गांवों में 216 बच्चे पैदा हुए, लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि इनमें से एक भी बेटी का जन्म नहीं हुआ। इस बात की जानकारी खुद स्वास्थ्य विभाग के मार्च, अप्रैल और मई तक की रिपोर्ट में सामने आई है।

रिपोर्ट के मुताबिक जिले के 133 गांवों में तीन महीने के भीतर 216 प्रसव हुए, लेकिन एक बी बेटी ने जन्म नहीं लिया। सरकारी रिपोर्ट में ही बिगड़ते लिंगानुपात की यह स्थिति सामने आने से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है। यह रिपोर्ट इशारा कर रही है कि कहीं बेटियों को जन्म लेने से पहले ही मार तो नहीं दिया गया।

यह भी पढ़ें…ये हैं गुजरात के आनंद कुमार, दे रहे हैं गरीब व वंचित छात्रों को चार्टर्ड एकाउंटेंट की फ्री शिक्षा

जानकारी सामने आने आने के बाद उत्तरकाशी से लेकर देहरादून तक स्वास्थ्य महकमे में अधिकारी वजह जानने की कोशिश में जुट गए हैं। अधिकारियों का दावा है कि इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है।