राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने किया राष्ट्रीय युवा उत्सव 2020 का समापन

राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्रीय युवा महोत्सव में देश के विभिन्न राज्यों के युवाओं द्वारा अपने-अपने क्षेत्र के जिन आंचलिक लोकगीत, लोकनृत्य तथा अन्य विधाओं सहित जिन 18 परम्परागत कलाओं का प्रदर्शन किया गया है।

लखनऊः उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गुरुवार को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में पांच दिवसीय 23वें ‘राष्ट्रीय युवा उत्सव 2020’ में देश के कोने-कोने से आये युवा प्रतिभागियों को समापन समारोह के अवसर पर सम्बोधित करते हुए कहा कि इस महोत्सव में युवा कलाकारों ने भाग लेकर लोक जनजीवन में प्रचलित कलाओं के माध्यम से विविधता के साथ जिस एकता और अखण्डता का परिचय दिया है, उससे देश की युवा शक्ति की ऊर्जा और सांस्कृतिक एकता साकार हुई है।

राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्रीय युवा महोत्सव में देश के विभिन्न राज्यों के युवाओं द्वारा अपने-अपने क्षेत्र के जिन आंचलिक लोकगीत, लोकनृत्य तथा अन्य विधाओं सहित जिन 18 परम्परागत कलाओं का प्रदर्शन किया गया है, वे हमारी संस्कृति के साथ ही पीढ़ी दर पीढ़ी विकसित हुईं हैं। इन कलाओं का इतिहास उतना ही पुराना है, जितना हमारी भारतीय सभ्यता का। विरासत के रूप में प्राप्त ये कलाएं अपने समय की जीवित यथार्थ रही हैं।

उन्होंने कहा कि कला का सबसे जीवंत रूप प्रदर्शन कलाओं में देखने को मिलता है। प्रदर्शन कलाएं हमारी सांस्कृतिक विरासत में बहुत गहरी जुड़ी हुई हैं, वे नये और पुराने को जोड़ती हैं और देश को एक सूत्र में बांधती हैं।

यह भी पढ़ें…BCCI ने बताया, धोनी को कॉन्ट्रैक्ट से क्यों किया गया बाहर

राज्यपाल ने कहा कि 23वें राष्ट्रीय युवा उत्सव की थीम ‘फिट यूथ-फिट इंडिया’ रखी गई। भारत प्रतिभाओं का देश है और यह अच्छा संकेत है कि 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्ष से कम के आयु वालों की हैं।

राज्यपाल ने कहा कि हमारी युवा आबादी में जोश और साहस है तथा उनमें विशिष्ट करने की क्षमता भी है। इस जोश, साहस और विशिष्ट क्षमता को देश हित में प्रयोग करने की जरूरत है। उन्होंने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि युवा देश की महान विरासत को आगे ले जाएं।

यह भी पढ़ें…दो दुश्मन देशों में हुई दोस्ती, जानिए क्या होगा भारत पर असर

उन्होंने कहा कि हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि लगभग 50 प्रतिशत भागीदारी महिलाओं की भी है। हमें विकसित भारत के निर्माण के लिये महिलाओं को भी हर स्तर पर समान अवसर उपलब्ध कराना होगा।

इससे पहले केंद्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) किरन रिजीजू ने कहा कि उत्तर प्रदेश ने इस युवा महोत्सव के आयोजन को भव्य एवं यादगार बनाया है। उन्होंने कहा कि ‘खेलो इंडिया’ का अभियान पूरे देशभर में चल रहा है और हमारा प्रयास है कि वर्ष 2028 में लाॅस एंजिल्स में होने वाले ओलम्पिक में हमारे युवा अधिक से अधिक पदक प्राप्त कर रिकार्ड बनायें।

यह भी पढ़ें…पीएम मोदी ने सूफी परंपरा को लेकर कही ये बड़ी बात

समारोह को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य तथा युवा कल्याण एवं खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर राज्यपाल ने महोत्सव में विभिन्न विधाओं के विजेताओं को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।