कोई करेगा रक्तदान, कोई मनाएगा दिवाली, जिस दिन होगी निर्भया के दोषियों को फांसी

निर्भया गैंगरेप केस में दिल्ली की पटियाला हाई कोर्ट ने मंगलवार को दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी कर दिया है। कई सालों से दोषियों की फांसी का इंतजार कर रहे निर्भया के उत्‍तर प्रदेश के बलिया स्थित गांव में भी कोर्ट के फैसले के बाद खुशी की लहर है।

Published by suman Published: January 7, 2020 | 10:16 pm

बलिया:  निर्भया गैंगरेप केस में दिल्ली की पटियाला हाई कोर्ट ने मंगलवार को दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी कर दिया है। कई सालों से दोषियों की फांसी का इंतजार कर रहे निर्भया के उत्‍तर प्रदेश के बलिया स्थित गांव में भी कोर्ट के फैसले के बाद खुशी की लहर है। पिछले सात साल से दोषियों के मौत की सजा की मन्नत मांग रहे निर्भया के गांव के साथ जिले के लोगों में देर से ही सही न्याय मिलने को लेकर संतुष्ट है। चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह सात बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी।

यह पढ़ें…यूपी की बिटिया ने मचाया धमाल, सिर्फ 6 साल की उम्र में जीता ये बड़ा खिताब

 

*ग्रामीणों का कहना है कि दरिंदों को फांसी पर लटकाए जाते ही गांव में दीपावली मनाई जाएगी। गौरतलब है 16 दिसंबर 2012 की रात दिल्ली में एक बस में सवार छह दरिंदों ने पैरामेडिकल की छात्रा निर्भया के साथ चलती बस में गैंगरेप करके हैवानियत की सभी हदें पार कर दी थीं। इस घटना से देश आक्रोशित हो उठा था और लोग सड़कों पर उतर आए थे।

 

*बलिया जिले के मेड़वराकला गांव में मंगलवार की शाम को लोगों खुशी का माहौल रहा। निर्भया के दादा लाल जी सिंह का कहना है, ‘अपराधियों को इतना समय नहीं मिलना चाहिए था, जितना इन दरिंदों ने जान बचाने के लिए मामले को लटकाकर लिया। जिस दिन फांसी हो जाएगी, उसी दिन हम समझेंगे की फांसी हो गई। ऐसे मामले में एक दो तीन महीने के भीतर सजा मिल जाएं तो घटनाएं निश्चित ही कम हो जाएंगी।’ निर्भया की चचेरी बहन ने कहा कि जिस दिन दोषियों को फांसी दी जाएगी, उस दिन को पूरे गांव के लोग त्योहार के रूप में मनाएंगे। ऐसे दोषियों को फांसी देने में देरी नहीं करनी चाहिए, हमारी बहन तो चली गई और भारत ही नहीं पूरा विश्व कांप गया था।

*फौजियों के मशहूर गांव बसंतपुर की ब्लड डोनर्स बटैलियन भी निर्भया के दोषियों को फांसी का इंतजार कर रही है। डेथ वॉरंट जारी होने के बाद खुशी जाहिर करते हुए कहा, ‘जिस दिन इन दरिंदों को फांसी पर लटकाया जाएगा, हमारे गांव के युवा जरूरतमंदों को रक्तदान करके बेटियों के सम्मान और इज्जत के लिए लोगों को प्रेरित करने का काम करेंगे।’

यह पढ़ें…JNU हिंसा: छात्रों के प्रदर्शन में कन्हैया के साथ पहुंचीं दीपिका, कही ये बात

*निर्भया के दोषियों को फांसी की सजा के बाद डेथ वॉरंट जारी होने पर खुशी जाहिर करते हुए किन्नर समाज ने कहा, ‘जिस दिन ये दरिंदे फांसी पर लटकेंगे, किन्नर समाज पूरे जिले में खुशी मनाएगा। देर से ही सही न्याय तो मिला।’ ये समाज ये चाहता है कि ऐसे दरिंदों को फांसी के सजा की जगह हाथ-पैर काटकर छोड़ दिया जाए ताकि जिंदगी भर वे अपने गुनाह की सजा भुगतते रहें।