Top

वर्ल्डकप टीम के इस क्रिकेटर की पत्नी ने लगाया पुलिस उत्पीड़न का आरोप

क्रिकेटर शमी की पत्नी हसीन जहां ने मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी से मदद मांगी थी। इसके बाद नकवी हसीन को लेकर एडीजी से मिलीं और हसीन ने उन्हें अपने साथ हुए दुर्व्यवहार और पुलिस कार्रवाई की शिकायत की। फरहत नकवी बीजेपी नेता मुख़्तार अब्बास नकवी की बहन हैं।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 May 2019 4:23 PM GMT

वर्ल्डकप टीम के इस क्रिकेटर की पत्नी ने लगाया पुलिस उत्पीड़न का आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बरेली : क्रिकेटर शमी की पत्नी हसीन जहां ने मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी से मदद मांगी थी। इसके बाद नकवी हसीन को लेकर एडीजी से मिलीं और हसीन ने उन्हें अपने साथ हुए दुर्व्यवहार और पुलिस कार्रवाई की शिकायत की। फरहत नकवी बीजेपी नेता मुख़्तार अब्बास नकवी की बहन हैं।

आपको बता दें, हसीन की शिकायत के बाद एडीजी अविनाश चन्द्र ने महिला सीओ को मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

ये भी देखें : भारत की विरासत को दर्शाता रिलायंस ज्वेल्स का नया कलेक्शन ‘अपूर्वम’

जानिए क्या है मामला

हसीन 28 अप्रैल को अपने पति क्रिकेट खिलाड़ी मो. शमी के घर आई थी। आरोप हैं कि उनके ससुराल वालों ने उनको अपमानित किया इसके बाद वो सोने चली गईं। रात में करीब 12 बजे दरवाजे पर दस्तक हुई तो उन्होंने दरवाजा खोला, वहां पुलिस थी जो उन्हें और उनकी साढ़े तीन साल की बेटी को ले गई।

हसीन ने आज एडीजी को पूरी बात बताई। हसीन इस प्रकरण से काफी आहत हैं और वह पुलिस के कुछ लोगों के खिलाफ कार्रवाई चाहती हैं।

ये भी देखें : गठबंधन को जाति धर्म की राजनीति करनी है, इन्हें देश के विकास से कोई मतलब नही: योगी

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story