हाथरस कांड: पीड़ित परिवार को धमकियां दे रहे DM, वायरल वीडियो से उठे सवाल

पीड़ित परिवार के मुताबिक मामले को रफा-दफा करने के लिए प्रशासन की ओर से दबाव भी डाला जा रहा है। इसके साथ ही लोगों की आवाजाही रोकने के लिए पीड़िता के गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित करने की भी तैयारी है।

Published by suman Published: October 1, 2020 | 10:00 pm
Modified: October 1, 2020 | 10:08 pm
dm hathrash gang rape

हाथरस कांड: पीड़िता के परिवार को धमकियां,सोशल मीडिया से

लखनऊ पूरे देश को झकझोर देने वाले हाथरस कांड में अब डीएम प्रवीण कुमार भी गंभीर आरोप में घिरते जा रहे हैं। गैंगरेप के बाद दलित लड़की की मौत और फिर उसके शव के जोर जबर्दस्ती से अंतिम संस्कार के कारण लोगों में जबर्दस्त गुस्सा है और प्रदेश की योगी सरकार आरोपों के घेरे में आ गई है। ऐसे में जिलाधिकारी प्रवीण कुमार मामले को रफा-दफा करने की कोशिश में लगे हुए हैं।

गैंगरेप पीड़िता के परिजनों ने जिलाधिकारी पर धमकाने और दबाव डालने के गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़ित परिवार के मुताबिक मामले को रफा-दफा करने के लिए प्रशासन की ओर से दबाव भी डाला जा रहा है। इसके साथ ही लोगों की आवाजाही रोकने के लिए पीड़िता के गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित करने की भी तैयारी है।

 

 

हाथरस DM ने पूरी तरह से थू – थू करवा दी है, जरा सुने इन्हें…

Posted by Newstrack on Thursday, October 1, 2020

वीडियो

आवाज को दबाने की प्रशासन की कोशिश

गैंगरेप पीड़िता की भाभी का कहना है कि मुआवजे की बात कहकर हमारी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है। हमसे कहा जा रहा है कि अगर लड़की की मौत कोरोना से हो जाती तो क्या मुआवजा मिल पाता। अनीता की भाभी का कहना है कि परिवार को धमकियां दी जा रही हैं। पापा को भी धमकी देकर आवाज बंद करने की कोशिश की जा रही है। भाभी को इस बात का डर सता रहा है कि अब उन लोगों को यहां नहीं रहने दिया जाएगा।

 

यह पढ़ें….स्कूलों पर बड़ा फैसला: हुआ ये ऐलान, छात्रों के लिए है जानना जरूरी

 

gangrape hathras
सोशल मीडिया से

 

वायरल वीडियो में डीएम दे रहे धमकी

इस बीच डीएम का एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें वे पीड़ित परिवार को धमकी देते हुए दिख रहे हैं। इस वीडियो में डीएम प्रवीण कुमार पूरे परिवार से कह रहे हैं की मीडिया वाले तो एक-दो दिन दिखेंगे और फिर चले जाएंगे मगर प्रशासन के लोगों को यही रहना है।

डीएम  पीड़ित परिवार से यह भी कह रहे हैं कि मीडिया वाले तो चले जाएंगे मगर हम आपके साथ खड़े हैं। ऐसे में अब आपकी इच्छा है कि आपको अपना बयान बदलना है या नहीं।

गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित करने की तैयारी

जिलाधिकारी प्रवीण कुमार का कहना है कि मेडिकल और फॉरेंसिक रिपोर्ट में पीड़िता से रेप की पुष्टि नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि पीड़िता के निजी अंगों पर कोई चोट नहीं थी। उन्होंने कहा कि कुछ पुलिसकर्मियों में कोरोना के लक्षण पाए गए हैं। अगर उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि हमने कोरोना लक्षण वाले पुलिसकर्मियों से कोरोना टेस्ट कराने के लिए कहा है। यदि उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो गांव को कंटेनमेंट जोन घोषित कर सभी बाहरी लोगों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी जाएगी।

 

यह पढ़ें….अपर मुख्य सचिव सूचना पद से हटाए गए अवनीश अवस्थी, नवनीत सहगल को मिली कमान

 

 

hathras
सोशल मीडिया से

एसआईटी ने गांव में शुरू की जांच पड़ताल

इस बीच एसआईटी ने चंदपा गांव पहुंचकर मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। जिलाधिकारी ने बताया कि एसआईटी की टीम ने युवती के परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत की है। एसआईटी सभी के बयान दर्ज कर रही है और उसने अपराध स्थल का मुआयना भी किया है। हाथरस जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि गैरकानूनी तरीके से भीड़ लगाने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

युवती के साथ रेप न होने का दावा

उधर एडीजी ला एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने दावा किया है कि युवती के साथ रेप नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि गले में चोट लगने और सदमे की वजह से युवती ने दम तोड़ा है।  उन्होंने कहा कि फॉरेंसिक लैब रिपोर्ट से यह बात जाहिर हुई है कि युवती के साथ कोई बलात्कार नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि घटना के बाद पुलिस को दिए गए बयान में भी युवती ने अपने साथ रेप होने की बात नहीं कही थी। उस समय युवती की ओर से सिर्फ मारपीट किए जाने का आरोप लगाया गया था।

रिपोर्टर अंशुमान तिवारी

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App