हाथरस कांडः पुलिस ने जबरन शव को जलाया, अधिकारियों के पैर पकड़ रोते रहे परिजन

यूपी की राजनीति के केन्द्र में आए हाथरस कांड में अब एक और नया मोड़ आ गया है। पुलिस ने घरवालों की असहमति के बाद भी मृतका के शव को जला दिया। इसे लेकर पूरे गांव में गुस्से का माहौल है।

Hathras Gangrape Case

हाथरस कांडः पुलिस ने जबरन शव को जलाया, अधिकारियों के पैर पकड़ रोते रहे परिजन (फोटो: सोशल मीडिया)

लखनऊ: यूपी की राजनीति के केन्द्र में आए हाथरस कांड में अब एक और नया मोड़ आ गया है। पुलिस ने घरवालों की असहमति के बाद भी मृतका के शव को जला दिया। इसे लेकर पूरे गांव में गुस्से का माहौल है। पुलिस की इस हरकत को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ से इस्तीफे की मांग की है।

तो वहीं बसपा सुप्रीमों मायावती ने सुप्रीम कोर्ट से इस मामले को संज्ञान में लेने की मांग की है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस कृत्य को अन्यायपूर्ण बताते हुए योगी सरकार की निन्दा की है। उन्होंने इसे अपमानजनक कार्रवाई बताया है।

नहीं पसीजा पुलिस अधिकारियों का दिल

इस बारे में मृतका के परिजनों का कहना है कि हमने शव को लेने के लिए जिलाधिकारी से लेकर अन्य पुलिस अधिकारियों के पैर तक पकड़े। पर पुलिस ने शव को नहीं सौंपा। इसके लिए मृतका के घर वालों ने कई मिन्नतें की। पर पुलिस ने उनकी एक न सुनी।

यह भी पढ़ें…हाथरस पर भूचाल: गैंगरेप पीड़िता की लाश पर हंसती रही पुलिस, रोते रहे मां-बाप

उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में हुई गैंग रेप की घटना से पहले पीड़ित महिला के परिवार ने उत्तर प्रदेश पुलिस पर शुरू में मदद नहीं करने का आरोप लगाते रहे हैं। इन लोगों ने पुलिस से मदद मांगी थी पर उनकी मदद नहीं हुई।

Hathras Gangrape

दरिंदों ने पीड़िता की जीभ तक काट दी

19 वर्षीय लड़की के साथ दरिंदगी 14 सितम्बर को हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में हुई थी। वहशियों की दरिंदगी की शिकार पीड़िता की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई। हैवनियत की हद तो यह हो गई कि दरिंदों ने उसकी जीभ तक काट दी।

यह भी पढ़ें…हाथरस गैंगरेप: पुलिस ने कराया पीड़िता का अंतिम संस्कार, विरोध करते रहे परिजन

बलात्कार की शिकार महिला पिछले दो हफ्ते से अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कालेज में भर्ती थी। जब उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ तो उसे दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां मंगलवार को सुबह उसकी मौत हो गयी।

यह भी पढ़ें…थोड़ी देर में आएगा बाबरी विध्वंस का फैसला, शुरू होगी श्रीकृष्ण जन्मभूमि की सुनवाई

इस मामले को लेकर देर रात दिल्ली के सफदरजंग अस्पाल के बार भीड़ लगी रही। घर वाले अपनी बेटी के शव को मांगते रहे पर पुलिस हीलाहवाली करती रही। कभी शव को हाथरस ले जाने की बात कहती रही तो कभी वहीं पर शव देने की बात कहते रहे। पर देर रात पुलिस ने बिना घर वालों की जानकारी शव को जला दिया।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App