एनएसईजेड में कंपनियों को हो रहा भारी नुकसान, हजारों लोग हो सकते है बेरोजगार

फैक्टरी मालिक अपने व्यवसाय के भविष्य को लेकर असुरक्षा से गुजर रहे हैं। सभी ऑर्डर विदेशी खरीदारों द्बारा रद्द किए जा रहे हैं। तैयार किए गए शिपमेंट को तब तक निर्यात नहीं किया जा सकता जब तक कि स्थानीय प्रशासन उन्हें ऑपरेशन शुरू करने की अनुमति नहीं देता।

नोएडा: गृह मंत्रालय ने 15 अप्रैल 2020 की अपनी अधिसूचना में भारत के सभी एसईजेड को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ परिचालन शुरू करने की अनुमति दी है, लेकिन एनएसईजेड नोएडा ने अभी भी शुरू नहीं किया है और स्थानीय प्राधिकरण से आदेशों की प्रतीक्षा कर रहा है। नोएडा विशेष आर्थिक क्षेत्र चारों और से बाउड्री वााल से घिरा है और इसमें प्रवेश और निकास के लिए एकमात्र द्बार है।

कारखानों को हो सकता है भारी नुकसान

फैक्टरी मालिक अपने व्यवसाय के भविष्य को लेकर असुरक्षा से गुजर रहे हैं। सभी ऑर्डर विदेशी खरीदारों द्बारा रद्द किए जा रहे हैं। तैयार किए गए शिपमेंट को तब तक निर्यात नहीं किया जा सकता जब तक कि स्थानीय प्रशासन उन्हें ऑपरेशन शुरू करने की अनुमति नहीं देता। यहां तक कि शिपमेंट अंतिम चरण में हैं, विभिन्न चरणों में खुले रूप से पड़े अर्ध उत्पादित सामान क्षतिग्रस्त हो रहा है। इससे कारखानों को भारी नुकसान हो सकता है।

व्यापार मालिकों की राय है कि यदि कारखानों को तुरंत काम करने की अनुमति नहीं दी , तो इससे उन्हें अपने कर्मचारियों और श्रमिकों की ताकत कम करने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है, जिससे विशाल बेरोजगारी हो जाएगी।

मालिकों को सता रहा आर्डर वापस होने का डर

एनएसईजेड में 50000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। न केवल इस व्यवसाय के मालिकों को डर है कि अगर कारखानों को काम करने की अनुमति नहीं दी तो खरीदार अपने आर्डर वापस या किसी और देश में दे सकते है। जहां कारखाने पूर्ण संचालन में हैं।

ये भी देखें: बदहाल क्वारेंटाइन सेंटर, यहां तो रसोई में सब घसर-पसर हैं

कारखाना मालिकों का दावा है कि एनएसईजेड में इकाइयां 100 प्रतिशत निर्यात कर रही हैं। उनके कारखानों का निरीक्षण सभी आवश्यक अनुपालन को पूरा करने के लिए विदेशी खरीदारों द्बारा किया जाता है। इसलिए, वे गृह मत्रांलय द्बारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार अपने कारखानों को चलाने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित हैं।

गृमंत्रालय के आदेशों का होगा पालन

एनएसईजेड को विकास आयुक्त की अध्यक्षता वाले अपने प्राधिकरण द्बारा प्रशासित किया जाता है, जो एक उच्च रैंक वाले सरकारी अधिकारी है। प्राधिकरण गृह मत्रांलय के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए कारखानों की निगरानी कर सकता है। एनएसईजेड एक बॉउंड्री से कवर्ड कॉम्प्लेक्स है जिसमें प्रवेश / निकास के लिए एकमात्र गेट का उपयोग किया जाता है।

ये भी देखें: पूर्वांचल यूनिवर्सिटी का छात्रों को तोहफा, इस सत्र से डी-फार्मा की भी पढ़ाई

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App