ऑनलाइन ठगी का होते हैं शिकार, तो यहां दर्ज कराएं शिकायत, वापस मिलेगा पैसा

बरामदकर्ता साइबर सेल आरक्षी शैलेन्द्र कुमार कन्नौजिया ने जनपद वासियों से अपील की कि कोविड.19 के दौरान साइबर अपराधों से सावधान रहे।

Published by Aradhya Tripathi Published: June 4, 2020 | 7:32 pm

मऊ: जिले के पुलिस अधीक्षक के समक्ष पीड़ितों ने विभिन्न प्रकार से हुये ऑनलाइन फ्रॉड के शिकायत प्रार्थना पत्र पुलिस अधीक्षक को दिए। जिसपर महोदय के निर्देशानुसार चलाये जा रहे साइबर अपराध पर नियंत्रण के क्रम में जिसकी जाँच साइबर सेल मऊ द्वारा की गई। जिसका विवरण यहां दिया गया है।

साइबर सेल ने लौटाए 63,107 रूपए

साइबर सेल द्वारा जांच करके कई लोगों की रकम को वापस उनके खातों में पहुँचाया गया। इसमें पीड़ित अमित कुमार सिंह निवासी मऊ के फ्रॉड का 8000 व 2123 रूपए बचत खाते में वापस कराया गया। वहीं पीड़ित केदार सिंह निवासी थाना हलधरपुर क्षेत्र मऊ के साथ हुये फ्रार्ड से 7990 रूपए की धनराशि को वापस कराया गया।

ये भी पढ़ें-    बड़े भूकंप का खतरा: दिल्ली को जापान से लेना चाहिए ये सबब, तभी बच पाएंगे

पीड़िता रानी वर्मा के साथ हुए फ्रॉड का 36985 रुपया वापस आया। वहीं जय हिंन्द यादव निवासी लोहाटिकल थाना सरायलखन्सी जनपद मऊ के साथ हुऐ फ्रार्ड की धनराशि में से 8000 रूपये वापस कराया गया। साइबर सेल द्वारा मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच की गयी और आवेदकों के बचत खातों में कुल 63,107 रुपए की बड़ी रकम को वापस कराया गया। इस पर पीड़ितों ने एसपी महोदय को धन्यवाद दिया।

ठगों द्वारा अपनाए गए ठगी के तरीके

साइबर ठग ठगी के लिए अलग-अलग तरीकों को अपनाते थे। जैसे कि आवेदक ओएलएक्स ऐप पर गाड़ी खरीदना चाहता था जिसमें उन्होंने एक गाड़ी पसंद की जिसके लिए आवेदक ने उसमें दिये गये नम्बर पर कॉल कर बात की वह नम्बर साइबर अपराधी का था। जिसने अपना नाम राजेष कुमार बताया तथा आवेदक को बुक कराने के नाम पर कुछ रूपये पेटीएम करने को बोला तथा धोखे से खाते में पैसे ट्रान्सफर करा लिया। इसके अलावा और कामों कें नाम पर ये ठग लोगों से पैसा लूटते थे। जैसे-

– ईएमआई में छूट देने के नाम पर ठगी।
– प्रधानमंत्री केयर फण्ड के नाम पर धोखाधड़ी।
– फेसबुक मैसेन्जर के माध्यम से ठगी।
– ई.केवाईसी अपडेट के नाम पर ठगी।

ये भी पढ़ें-    बड़ा खुलासा: सामने आई जॉर्ज फ्लॉयड की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, नहीं बचेगा पुलिस अधिकारी

– राशन वितरण/बेरोजगारी भत्ते के पंजीकरण के नाम पर ठगी।
– रोजमर्रा के सामानों की ऑनलाइन डिलिवरी के नाम पर ठगी।
– फ्री इंटरनेट रिचार्ज/ऑनलाइन मूवी चैनल पर पंजीकरण के नाम पर ठगी।
सारे रुपयों को वापस कराने वाले बरामदकर्ता साइबर सेल आरक्षी शैलेन्द्र कुमार कन्नौजिया ने जनपद वासियों से अपील की कि कोविड.19 के दौरान साइबर अपराधों से सावधान रहे।

रिपोर्ट- आसिफ रिज़वी

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App