Top

जौनपुर पहुंची राज्यपाल आनंदी पटेल ने की छात्रों से खास मुलाकात, चहक उठे बच्चे

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कोचिंग के बच्चों से बातचीत कर उनकी पढ़ाई के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय का यह नैतिक उत्तरदायित्व बनता है कि वह जिस क्षेत्र विशेष में अवस्थित है उस क्षेत्र का विकास करें।

Shraddha Khare

Shraddha KhareBy Shraddha Khare

Published on 17 Feb 2021 1:42 PM GMT

जौनपुर पहुंची राज्यपाल आनंदी पटेल ने की छात्रों से खास मुलाकात, चहक उठे बच्चे
X
जौनपुर पहुंची राज्यपाल आनंदी पटेल ने की छात्रों से खास मुलाकात, चहक उठे बच्चे
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जौनपुर । वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय कुलपति के आवास पर विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के अवसर पर महामहिम राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने निःशुल्क प्रेरणा कोचिंग के विद्यार्थियों को आशीर्वाद दिया और कहा कि यह बहुत नेक कार्य है। ऐसे कार्य का जिम्मा हर विश्वविद्यालय को लेना चाहिए।

राज्यपाल ने निःशुल्क प्रेरणा कोचिंग के छात्रों से की बातचीत

राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कोचिंग के बच्चों से बातचीत कर उनकी पढ़ाई के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय का यह नैतिक उत्तरदायित्व बनता है कि वह जिस क्षेत्र विशेष में अवस्थित है उस क्षेत्र का विकास करें। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफ़ेसर निर्मला एस.मौर्य ने कहा कि बच्चे देश के भविष्य हैं उनके व्यक्तित्व निर्माण में जो सहायक होते हैं वास्तव में वही देश का चरित्र निर्माण करते हैं उन्होंने प्रेरणा निशुल्क कोचिंग के संयोजन में भूमिका निभाने वाले लोगों की सराहना की।

निःशुल्क कोचिंग प्रेरणा

बताते चलें कि विगत 7 वर्षों से संचालित निःशुल्क कोचिंग प्रेरणा के द्वारा पड़ोसी गांव देवकली गांव के पंचायत भवन में विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग,फार्मेसी एवं प्रो० रज्जू भइया संस्थान के छात्र एवं छात्राओं द्वारा संचालित होती है । अपने कीमती समय में से कुछ समय निकालकर न केवल गरीब एवं जरुरत मंद बल्कि समाज के हर वर्ग के बच्चों की प्रतिभा निखारने का महत्वपूर्ण कार्य ये छात्र कर रहें हैं । प्रेरणा का आविर्भाव 4 फरवरी 2014 को हुआ था ।

coaching

ये भी पढ़े......इटावा: पुलिस ने शिक्षक की पत्नी को दी थर्ड डिग्री, हुआ था ये विवाद

7 वर्षों में 1500 बच्चे हुए लाभान्वित

यह कोचिंग पूर्वान्चल विश्वविद्यालय के आस-पास के लगभग 8 गांवों के उन सभी बच्चों के लिए वरदान है जो आज की महंगी शिक्षा से वंचित है। इस कोचिंग की शुरुआत राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में शुरू हुई थी । विगत 7 वर्षों में डॉ० राज कुमार, विभागाध्यक्ष गणित विभाग के निर्देशन में इस कोचिंग ने प्रारंभ में 30 बच्च्चों से शुरू करते हुए आज तक लगभग 1500 बच्चों को लाभान्वित किया है । कोचिंग में यथा समय आर्थिक सहयोग विश्वविद्यालय के शिक्षकों डॉ० राज कुमार, डॉ संतोष कुमार, डॉ धीरेन्द्र चौधरी, आचार्य विक्रम देव शर्मा एवं अन्य शिक्षकों द्वारा साथ ही राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयकों द्वारा किया जाता है । इस कोचिंग के संस्थापक छात्र विशाल सिंह एवं अभिनव नागर रहे हैं ।

रिपोर्ट : कपिल देव मौर्य

ये भी पढ़े......शाहजहांपुर: युवक की गोली लगने से मौत, पूरी बात जानकर हो जाएंगे दंग

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shraddha Khare

Shraddha Khare

Next Story