Top

Gorakhpur Police का कारनामा: दरोगा और सिपाही ने लूटे 30 लाख, जानें मामला

महराजगंज के निचलौल के दो स्वर्ण व्यवसाइयों से पुलिस की वर्दी में आए बदमाशों ने 19 लाख नकदी व 11 लाख के पुराने सोने लूट लिये।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 21 Jan 2021 10:11 AM GMT

Gorakhpur Police का कारनामा: दरोगा और सिपाही ने लूटे 30 लाख, जानें मामला
X
Gorakhpur Police का कारनामा: दरोगा और सिपाही ने लूटे 30 लाख, जानें मामला (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर: महराजगंज के स्वर्ण कारोबारियों के साथ 48 घंटे पहले गोरखपुर के नौसढ़ के पास हुई 30 लाख की लूट का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। लूट फर्जी पुलिस वालों ने नहीं बल्कि असली पुलिस ने की थी। लूट को अंजाम देने वाले दारोगा और दो सिपाही बस्ती जिले में तैनात है। खुलासे के बाद पुलिस महकमें खूब फजीहत हो रही है।

ये भी पढ़ें:तांडव विवाद: मुंबई में डायरेक्टर अली अब्बास जफर के घर पहुंची यूपी पुलिस

गोरखपुर पुलिस ने लूट का खुलासा किया

मंगलवार को महराजगंज के निचलौल के दो स्वर्ण व्यवसाइयों से पुलिस की वर्दी में आए बदमाशों ने 19 लाख नकदी व 11 लाख के पुराने सोने लूट लिये। इन दो स्वर्ण व्यवसाइयों से लूट की खबर से पुलिस सकते में आ गई थी। गुरुवार को गोरखपुर पुलिस ने लूट का खुलासा किया तो चौंकाने वाली बात सामने आई। पुलिस ने बताया कि लूट असली पुलिसवालों ने की थी। लूट का आरोपी दरोगा धर्मेन्द्र यादव, सिपाही संतोष यादव और महेन्द्र यादव तीनों पुरानी बस्ती थाने में तैनात हैं। एसएसपी ने बताया कि दागदार पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने की सिफारिश की जाएगी। तीनों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई होगी। तीनों ने खुद को कस्टम का अधिकारी बताकर लूट की थी।

ऐसे हुई लूट

निचलौल कस्बे के महाशय मोहल्ला निवासी दीपक वर्मा पुत्र राजनारायण व ग्राम खोन्हौली निवासी रामू वर्मा पुत्र स्व. दयाशंकर से गोरखपुर के गीडा क्षेत्र में बुधवार की सुबह करीब आठ बजे पुलिस की वर्दी में आए कुछ लुटेरों ने 19 लाख नकदी व 11 लाख रुपये के सोने लूट लिए थे। निचलौल मेन मार्केट में अंकित ज्वेलर्स के नाम से संचालित दुकान के मालिक व दीपक के बड़े भाई तारकेश्वर वर्मा के मुताबिक, एक सप्ताह की बिक्री व बदले गए पुराने सोने को लेकर उनका छोटा भाई दीपक बुधवार की सुबह पांच बजे घर से सरकारी बस से गोरखपुर के लिए निकले थे। उसके साथ खोन्हौली निवासी रामू वर्मा भी था। जो गौतम वर्मा की दुकान पर काम करता है और सोने चांदी के आभूषण लेकर गांवों में बेचता है।

ये भी पढ़ें:लखनऊ के अंकित मौर्या को मिलेगा ‘विवेकानंद यूथ अवार्ड’, सीएम योगी करेंगे सम्मानित

गोरखपुर पहुंच कर रोडवेज से जनरथ बस से लखनऊ के लिए निकलने वाले थे

दोनों गोरखपुर पहुंच कर रोडवेज से जनरथ बस से लखनऊ के लिए निकलने वाले थे। इसी बीच पुलिस की वर्दी में आए कुछ लोगों ने जांच के नाम पर उन्हें बस से उतार कर साथ लेते गए। दोनों को गीडा के पास सुनसान जगह पर ले जाकर मारपीट कर नकदी व पुराना सोना लूट लिया। साथ ही दोनों को वहीं छोड़कर चले गए। इसके बाद दोनों ने पहले लूट की सूचना घर वालों को दिया, फिर पुलिस को सूचित किया। तारकेश्वर वर्मा ने बताया कि उनके भाई दीपक के पास 11 लाख रुपये नकदी व 95 ग्राम पुराना सोना था। जिसकी कीमत पांच लाख के करीब है। इसके साथ ही रामू के पास आठ लाख नकदी व दो सौ ग्राम पुराना सोना जिसकी कीमत छह लाख थी।

रिपोर्ट- पूर्णिमा श्रीवास्तव

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story