कमलेश हत्याकांड: फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा केस, हत्यारों के लिए योगी सरकार करेगी ये मांग

कानून व्यवस्था पर चौतरफा हमला झेल रही योगी सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या का मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने का निर्णय लिया है। यूपी के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने सीतापुर में जाकर पीड़ित परिवार से मुलाक़ात की है। 

लखनऊ: हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या का मामला तूल पकड़ने लगा है। राजनीतिक दल इस मामले में सरकार को बख्शने के मूड में नहीं है।  कानून व्यवस्था पर चौतरफा हमला झेल रही योगी सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या का मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने का निर्णय लिया है।

यूपी के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने सीतापुर में जाकर पीड़ित परिवार से मुलाक़ात की है।  उन्होंने कमलेश के परिजनों को बताया कि सरकार इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाएगी और हत्यारों के लिए फांसी की भी मांग करेगी।

ये भी पढ़ें…कमलेश तिवारी हत्याकांड: कातिलों का सिर काटने वाले को ये शिवसैनिक देगा 1 करोड़

पीड़ित परिवार ने सीएम योगी से की मुलाकात

रविवार को मृतक कमलेश के पीड़ित परिजनों ने रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ से मुलाकात की। मुख्यमंत्री आवास पर हुई इस मुलाकात के बाद मृतक कमलेश की पत्नी किरन तिवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने उन्हें न्याय का भरोसा दिलाया है।

करीब पौन घंटे तक चली इस मुलाकात में पीड़ित परिवार ने मुख्यमंत्री से हत्यारों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की। नाका में हुए हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले फरार आरोपियों की तलाश के लिए पुलिस ने 10 टीमें गठित की हैं।

इसमें तीन टीमें जनपद के बाहर हत्यारोपियों की तलाश में दबिश दे रही है। वहीं, घटना स्थल के आस-पास मौजूद करीब 25 सीसीटीवी फुटेज को पुलिस ने खंगाला है, जिससे अहम सुराग हाथ लगे हैं।

एसएसपी कलानिधी नैथानी का कहना है कि फरार हत्यारोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जायेगा। एसएसपी ने बताया कि, हत्याकांड को अंजाम देने वाले फरार आरोपियों की तलाश जारी है।

इसके लिए 10 टीमें गठित की गई हैं, जिसमें से तीन टीमें जनपद से बाहर काम कर रहीं हैं, जबकि सात टीमें जनपद के अंदर ही हत्यारों की तलाश में जुटी हैं। वहीं, गुजरात कनेक्शन मिलने के बाद वहां पर एसपी क्राइम, सीओ हजरतगंज और सीओ गाजीपुर के नेतृत्व में बाहर भेजी गयी हैं।

घर के बाहर बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था

वारदात के बाद लखनऊ पुलिस ने कमलेश तिवारी के घर के बाहर की सुरक्षा को बढ़ा दिया है। लखनऊ पुलिस का कहना है कि घटना के बाद पीएसी बल को सर्तक करके पूरे मामले पर नजर है। इसके साथ ही कमलेश तिवारी के घर के बाहर एक हेड कांस्टेबल और तीन सिपाही की तैनाती कर दी गयी है। इसके साथ ही स्थानीय पुलिस भी वहां पर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेगी।

ये भी पढ़ें…क्या संबंध है! कमलेश तिवारी हत्याकांड और इस संगठन का?

कमलेश तिवारी के परिवार को मिली सुरक्षा

प्रदेश सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके परिजनों की सुरक्षा 24 घंटे 4 गनर करेंगे, साथ ही पुलिस की गारद भी लगायी जाएगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके परिवार की सुरक्षा के 24 घंटे4गनर के तैनाती का आदेश जारी कर दिया है, जो निःशुल्क है।

उनके परिजनों के घर की सुरक्षा के लिए पुलिस लाइन से 1 हेड कांस्टेबल व 3 कांस्टेबल भी घर पर तैनात करने के भी आदेश जारी किये गए है। साथ ही सुरक्षा के लिहाज से स्थानीय थाने की पुलिस सहित पीएसी का गारद भी लगाए जाने का आदेश देर शाम को जारी कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें…कमलेश तिवारी मर्डर में बड़ा खुलासा, ऐसे की गई थी हत्या