×

CM योगी की बड़ी कार्रवाई: कानपुर अपहरण मामले में IPS समेत 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड

उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपना लिया है। कानपुर में लैब असिस्टेंट संजीत यादव के अपहरण और हत्या के मामले में मुख्यमंत्री ने बड़ी कार्रवाई की है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 24 July 2020 8:11 AM GMT

CM योगी की बड़ी कार्रवाई: कानपुर अपहरण मामले में IPS समेत 4 पुलिसकर्मी सस्पेंड
X
CM Yogi
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

कानपुर: उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपना लिया है। कानपुर में लैब असिस्टेंट संजीत यादव के अपहरण और हत्या के मामले में मुख्यमंत्री ने बड़ी कार्रवाई की है। सीएम योगी ने IPS ऑफिसर अपर्णा गुप्ता, तत्कालीन डिप्टी एसपी मनोज गुप्ता समेत चार अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है। इसके अलावा सीएम योगी ने तत्कालीन एसओ बर्रा रणजीत राय थाना एवं चौकी इंचार्ज राजेश कुमार सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं ये भी माना जा रहा है कि प्रदेश में बढ़ते अपराधों से खपा सीएम योगी कई और अफसरों पर कार्रवाई कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: IPL-2020 का एलानः कीवी खिलाड़ियो को हरी झंडी, आस्ट्रेलिया तय करेगा

क्या है पूरा मामला?

उत्तर प्रदेश का कानपुर जिला पिछले एक महीने से काफी सुर्खियों में है। बिकरू कांड के बाद बर्रा अपहरण कांड ने कानपुर पुलिस को कठघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। इसके बाद यूपी पुलिस के कामकाज पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। बता दें कि बिकरू हत्याकांड के बीच कानपुर के बर्रा से एक खबर आई कि यहां पर लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का करीब एक महीने पहले 22 जून की रात को हॉस्पिटल से घर आने के दौरान अपहरण हो गया था। इस मामले में कानपुर पुलिस की भूमिका पर शुरू से ही सवालों खड़े किए जा रहे हैं।

दोस्तों ने किया था संजीत का अपहरण

करीब एक महीने बाद पुलिस ने इस मामले का खुलासा किया। संजीत के खुद उसके दोस्त थे। पुलिस ने इस मामले में पांच अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है, सभी संजीत के दोस्त हैं। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने यह कबूला है कि उन्होंने संजीत की हत्या कर उसका शव पांडु नदी में बहा दिया था। इस अपहरणकांड का मास्टरमाइंड ज्ञानेंद्र यादव था।

यह भी पढ़ें: अब पढ़ाई पर जोरः इस जिले में उठाए जा रहे ये कदम, ऑनलाइन होगा कार्यक्रम

पैसे देने के बाद भी युवक को नहीं बचा पाई पुलिस

पूछताछ में आरोपितों ने चौंकाने वाला खुलासा किया कि उन्होंने फिरौती का बैग उठाया ही नहीं। उनका कहना है कि उन्होंने फिरौती के लिए कॉल तो की थी, लेकिन फिरौती का बैग नहीं उठाया। इसके बाद से पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं। आरोप है कि पुलिस ने ही फिरौती के पैसे अपहरणकर्ताओं को देने के लिए कहा था, लेकिन पैसे देने के बाद पुलिस अगवा युवक को बचा नहीं पाती और उसकी हत्या हो जाती है।

यह भी पढ़ें: बारिश से मचा हाहाकार: हर तरफ चीख-पुकार, बाढ़ ने किया सब तबाह

आखिर फिरौती का बैग कहां गया?

आरोपितों द्वारा फिरौती की रकम मिलने से इनकार करने के बाद सवाल ये उठता है कि आखिर फिरौती का बैग कहां गया? वहीं उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपना लिया है और ऐसा कहना जा रहा है कि सीएम योगी कानपुर IG मोहित अग्रवाल, ADG जेएन सिंह, SSP दिनेश पी की कार्यप्रणाली से नाराज हैं।

यह भी पढ़ें: अब पढ़ाई पर जोरः इस जिले में उठाए जा रहे ये कदम, ऑनलाइन होगा कार्यक्रम

CM Yogi Adityanath

घटना को लेकर सीएम योगी ने जताई थी नाराजगी

इस पूरे मामले में पुलिस की लापरवाही साफ नजर आ रही है। मामले की गंभीरता को देखते हुए कानपुर अपहरण प्रकरण में सीओ गोविंद नगर मनोज गुप्ता , ए॰एस॰पी॰ अपर्णा गुप्ता , तत्कालीन एस॰ओ॰ बर्रा रणजीत राय थाना एवं चौकी इंचार्ज राजेश कुमार निलंबित कर दिया गया है। इस घटना को लेकर सीएम योगी ने नाराजगी भी जताई थी।

यह भी पढ़ें: बाबरी ध्वंसः कौन है सियासी दुश्मन, जिस पर आरोपित लगा रहे फंसाने के आरोप

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story