×

बारिश से मचा हाहाकार: हर तरफ चीख-पुकार, बाढ़ ने किया सब तबाह

असम में बाढ़ ने लाखों लोगों को प्रभावित किया हुआ है। यहां के 26 जिलों में बाढ़ से 56,64,499 लोग त्रस्त हैं और अब तक 93 लोगों की बाढ़ से मौत हो चुकी है। लोगों की जिंदगी तबाही की कगार पर है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 24 July 2020 7:48 AM GMT

बारिश से मचा हाहाकार: हर तरफ चीख-पुकार, बाढ़ ने किया सब तबाह
X
बारिश से मचा हाहाकार: हर तरफ चीख-पुकार, बाढ़ ने किया सब तबाह
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

गुवाहाटी। असम में बाढ़ ने लाखों लोगों को प्रभावित किया हुआ है। यहां के 26 जिलों में बाढ़ से 56,64,499 लोग त्रस्त हैं और अब तक 93 लोगों की बाढ़ से मौत हो चुकी है। लोगों की जिंदगी तबाही की कगार पर है। जिसके चलते राज्य सरकार ने 587 राहत शिविर लगाए हैं। इस बात की जानकारी राज्य सरकार ने दी है। राज्य में बाढ़ का दायरा बढ़ता ही जा रहा है। बाढ़ की वजह से लोगों के सामने खाने का महासंकट भी पैदा हो गया है।

ये भी पढ़ें...लैब असिस्टेंट की हत्या: प्रियंका बोलीं, गुंडों के सामने सरेंडर कर चुकी है कानून-व्यवस्था

4.86 लाख लोग बाढ़ की चपेट में

असम में बाढ़ के चलते कई लोग अपनी जमीन, घर व अपनों को भी गवां चुके हैं। वहीं काजीरंगा नेशनल पार्क में बाढ़ में डूबने से दर्जनों जानवरों की मौत हो गई। फिलहाल जानवरों का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

ऐसे में राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की के अनुसार, राज्य में धेमाजी, लखीमपुर, बिश्वनाथ, दारंग, बक्सा, नालबाड़ी, बारपेटा, चिरांग, कोकराझार, ढुबरी, गोलपारा समेत 26 जिलों में हालात बहुत बुरे हैं। इसमें गोलपारा सबसे ज्यादा प्रभावित है जहां 4.86 लाख लोग बाढ़ की चपेट में हैं।

ये भी पढ़ें...सड़क पर नर्स से मनचलों की छेड़छाड़, लोगों ने की आरोपियों की ऐसी धुनाई, रखेंगे याद

1.15 हेक्टेयर फसल नष्ट

बीते मंगलवार को राज्य भर में 80 नावों से बाढ़ में फंसे 452 लोगों को बाहर निकाला गया। 2525 गांव पूरी तरह पानी में डूबे हैं और 1.15 हेक्टेयर फसल नष्ट हुई है। राज्य के 20 जिलों में 391 राहत शिविर और वितरण केंद्र बनाए गए हैं जिनमें 45281 लोग ठहरे हैं।

बता दें, असम में ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ने की वजह से बाढ़ के हालात और बिगड़ने का संभावनाएं है। अधिकारियों के अनुसार, गुरूवार तक ब्रह्मपुत्र के जलस्तर में और 30 सेमी वृद्धि होने का अनुमान है। नदी के तटवर्ती इलाकों में रहने वालों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

बाढ़ राहत कार्य

हालाकिं मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार, केंद्र सरकार ने असम में बाढ़ राहत कार्य के लिए 346 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की है। साथ ही बाढ़ के मुद्दे पर भूटान के साथ भी चर्चा की जाएगी। वहीं केंद्र ने बुधवार को बाढ़ राहत कार्य में जुटे चार भूटानी सैनिकों की मौत पर शोक व्यक्त किया है।

ये भी पढ़ें... आफत में बिहारः टूटा बांध, आया सैलाब, खतरे में 600 गांव

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story