Top

आफत में बिहारः टूटा बांध, आया सैलाब, खतरे में 600 गांव

गोपालगंज में गंडक नदी पर बने एक और महासेतु पुल के एप्रोच रोड में दरार आ गई है। सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पुल का उद्घाटन किया था।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 24 July 2020 6:45 AM GMT

आफत में बिहारः टूटा बांध, आया सैलाब, खतरे में 600 गांव
X
BIHAR CRACK IN APPROACH ROAD
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोपालगंज: बिहार में बीते कई दिनों से लगातार भारी बारिश हो रही है। जिस वजह से अब हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। कई जिले बाढ़ की चपेट में हैं या वहां पर बाढ़ जैसे हालात हैं। वहीं इस बीच अब गोपालगंज में गंडक नदी पर सदर प्रखंड के राजवाही गांव के पास जादोपुर-मंगलपुर महासेतु पुल के एप्रोच रोड में दरार आ गई है। सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पुल का उद्घाटन किया था। बता दें कि इस पुल को भी सत्तरघाट पुल बनाने वाली वशिष्टा कंपनी ने ही बनाया था।

यह भी पढ़ें: बदलेगी PM की वेबसाइट: अब दिखेगी नए अंदाज में, किए जा रहे ये बदलाव

पुल पर आवागमन पूरी तरह बाधित

पुल पर आवागमन पूरी तरह बाधित है। साथ ही चंपारण तिरहुत और सारण के कई जिलों का संपर्क भी टूट गया है। बरौली के देवापुर में सारण प्रमुख बांध के साथ-साथ मांझागढ़ प्रखंड के पुरैना में भी सारण बांध टूट गया है। इससे गंडक नदी का तेज बहाव एनएच-28 की ओर आ रहा है। इसके बाद जिला प्रशासन बांध के किनारे बसे लोगों को अलर्ट करने का काम कर रही है।

यह भी पढ़ें: सुशान्त के इस फ्रेंड ने शेयर किया इमोशनल पोस्ट, कहीं ऐसी बातें, रो देंगे आप

गंडक में लगभग 4 लाख क्यूसेक पानी का बहाव था

बांध के ध्वस्त होने से एनएच- 28 पर बड़े वाहनों का आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है। जिस वक्त बांध टूटा उस समय गंडक में लगभग 4 लाख क्यूसेक पानी का बहाव था। बांध के टूटने से गोपालगंज का बरौली, मांझागढ़, सिधवलिया और बैकुंठपुर प्रखंड सबसे ज्यादा प्रभावित हो सकता है। इन प्रखंडों में बसे करीब 500 से 600 गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। इसके अलावा सीवान और छपरा के इलाके भी बाढ़ की चपेट में आ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: कानपुर अपहरण में खुलासा, मरने के बाद पुलिस ने दिला दी 30 लाख फिरौती

लोगों की बढ़ीं मुश्किलें

बता दें कि बिहार में पहले से ही नदियों के बढ़ते जलस्तर के चलते लाखों लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो चुका है। करीब पांच लाख लोगों इससे प्रभावित हैं। वहीं 10 जिलों की स्थिति तो काफी खराब है। बिहार के सभी जिलों की बात की जाए तो 245 पंचायतों में तबाही देखी जा सकती है। पहले बारिश और अब पानी के तेज बहाव ने लोगों की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं।

यह भी पढ़ें: फोन की बंपर सेल: Vivo X50 और X50 प्रो पर भारी छूट, मिल रहा हजारों का फायदा

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story