जिस घर में घुसे CO वो विकास दुबे का नहीं इनका था, इतनी बेरहमी से मारा, जाएंगे कांप

उत्तर प्रदेश के कानपुर में शुक्रवार को हुए बड़े हमले में यूपी पुलिस के आठ जवान शहीद हो गए। इसके बाद से पूरा पुलिस विभाग हरकत में आ गया है। अब इस हमले को लेकर नए-नए खुलासे हो रहे हैं।

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में शुक्रवार को हुए बड़े हमले में यूपी पुलिस के आठ जवान शहीद हो गए। इसके बाद से पूरा पुलिस विभाग हरकत में आ गया है। अब इस हमले को लेकर नए-नए खुलासे हो रहे हैं। कानपुर से सटे बिखारु गांव में तड़के पुलिस और विकास दुबे गिरोह के बीच चली खूनी मुठभेड़ हुई। इसमें बदमाशों ने साजिश रचकर प्लान के तहत पुलिसकर्मियों पर हमला किया है।

बदमाशों की बर्बरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि बिखारु गांव में मुठभेड़ के बाद हमले के मास्टरमाइंड विकास दुबे के घर के आसपास सड़कें खून से सनी हुई थीं और इधर-उधर खून बिखरा था। इस मामले एक और हैरान करने वाला खुलासा हुआ है कि चौबेपुर थाने के ही एक दारोगा ने विकास दुबे को पुलिस के रेड की सूचना दी है। पुलिस के शक के घेरे में एक दारोगा, एक सिपाही और एक होमगार्ड आ गए हैं।

यह भी पढ़ें…रो रो कर निढाल थीं मां और पत्नी, जब उठा शहीद का जनाजा

विकास दुबे की साजिश

इस हमले की चल रही जांच में खुलासा हुआ है कि मास्टरमाइंड विकास दुबे की साजिश के तहत बदमाशों ने अंधेरे का फायदा उठाकर पुलिस टीम पर चारों तरफ से हमला बोल दिया। जान बचाने के लिए पुलिस के जवान इधर-उधर भागने लगे। पुलिस टीम का नेतृत्व कर रहे सीओ देवेंद्र मिश्र इस दौरान बगल के घर में जाकर छिपे। यह घर विकास दुबे के मामा प्रेमप्रकाश पांडेय का था। जिसे शुक्रवार को पुलिस ने मार गिराया।

यह भी पढ़ें…कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे की कॉल डिटेल से बड़ा खुलासा, पुलिस के उड़े होश

इसके बाद कुछ बदमाश सीओ के पीछे पीछे विकास दुबे के मामा के घर में घुस गए। इसके बाद इन बदमाशों ने सीओ को पकड़कर उनका सिर दीवार से सटाकर गोली मार दी। सबसे दिल दहलाने वाली बात यह है कि इसके बाद उनके शव को घसीटकर घर के बाहर ले आए और उनके पैर को कुल्हाड़ी से काट दिया।

यह भी पढ़ें…पुलिसकर्मियों की शहादत पर कपिल शर्मा बोले, दोषियों को मिले ऐसी सजा

शव जलाना चाहते थे बदमाश

इसके बाद सीओ के साथ घर में घुसे चार सिपाहियों को भी बदमाशों ने उनके सामने ही गोलियों से भून दिया। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बदमाश पुलिसकर्मियों को मारकर उनके शव जलाना चाहते थे, क्योंकि बदमाशों ने पुलिसकर्मियों के शव एक जगह एक के ऊपर एक रखे थे। लेकिन वह अपने नापाक मंसूबों पर कामयाब नहीं हो पाए। पुलिस की गाड़ियों को भी फूंकने की तैयारी कर ली थी, हालांकि तभी वहां मौके पर भारी पुलिस फोर्स पहुंच गई और बदमाशों को वहां से भागना पड़ा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।