Top

मच्छरों से होने वाली बीमारियों के खिलाफ दस्तक अभियान 16 नवंबर से

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में बढ़ी जा रही मच्छर जनित बीमारियों पर अपनों चिंता व्यक्त की है। इसके लिए उन्होंने कहा की घर घर जाकर बीमारियों के बारे में पता करे और उनका इलाज करे।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 15 Nov 2019 7:19 AM GMT

मच्छरों से होने वाली बीमारियों के खिलाफ दस्तक अभियान 16 नवंबर से
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में बढ़ी जा रही मच्छर जनित बीमारियों पर अपनों चिंता व्यक्त की है। इसके लिए उन्होंने कहा की घर घर जाकर बीमारियों के बारे में पता करे और उनका इलाज करे। 16 से 30 नवंबर तक 'दस्तक अभियान अभियान चलाया जाएगा'।

ये भी देखें: चीन सरकार ने बच्चों के वीडियो गेम की लत पर काबू करने के लिए लगाया कर्फ्यू

अधिकारीयों के साथ एक बैठक एक बैठक में डेंगू सहित मच्छरजनित मलेरिया, चिकनगुनिया, फाइलेरिया, काला-अजार तथा जापानी इंसेफेलाइटिस जैसी बीमारियों के प्रकोप को नियंत्रित करने के उद्देश्य से प्रमुख सचिव चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण को नगर निगम (नगर विकास), ग्राम्य विकास, महिला एवं बाल कल्याण, चिकित्सा शिक्षा, पंचायतीराज, बेसिक शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा सहित अन्य सम्बन्धित विभागों से अंतर्विभागीय समन्वय स्थापित करते हुए 16 से 30 नवम्बर तक ‘दस्तक अभियान’ का चैथा चरण चलाने को कहा है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग इस अभियान का नोडल विभाग होगा।

ये भी देखें:आमिर की बिटिया रानी! जंगल में दिखी ऐसे बोल्ड अंदाज में, देख दंग रह जाएंगे आप

मुख्यमंत्री ने इस अभियान के तहत डेंगू सहित मच्छर जनित अन्य बीमारियों से प्रभावित जनपदों में गांव-गांव में फाॅगिंग करवाने के साथ-साथ एण्टी लार्वा अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस अभियान में व्यापक जन सहयोग सुनिश्चित किया जाए। इस अभियान में जिला प्रशासन के साथ-साथ स्कूलों/काॅलेजों के प्रधानाचार्यों, ग्राम प्रधानों तथा विद्यार्थियों का भी सहयोग सुनिश्चित किया जाए। साथ ही, लोगों को डेंगू से रोकथाम के विषय में जागरूक भी किया जाए।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story