×

भारत को अमेरिका का पिछलग्गू ना बनाओः वामदल

वामपंथी दलों ने 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस को 'संविधान की रक्षा और भारत की आजादी को सुद्रढ़ करने के संकल्प दिवस' के रूप में मनाने का आह्वान किया है।

Newstrack
Updated on: 12 Aug 2020 9:14 AM GMT
भारत को अमेरिका का पिछलग्गू ना बनाओः वामदल
X
भारत को अमेरिका का पिछलग्गू ना बनाओः वामदल
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: वामपंथी दलों ने 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस को 'संविधान की रक्षा और भारत की आजादी को सुद्रढ़ करने के संकल्प दिवस' के रूप में मनाने का आह्वान किया है। साथ ही एक सितंबर को 'भारत को अमेरिका का पिछलग्गू बनाने के प्रयासों पर विरोध दिवस' आयोजित करने का निश्चय किया है।

ये भी पढ़ें:स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां: विधानसभा पर तिरंगा पट्टी लगाते कारीगर, देखें तस्वीरें

भारत को अमेरिका का पिछलग्गू ना बनाओः वामदल

भारतीय संविधान के सिध्दांतों को नष्ट करने पर उतारू है

वामदलों का आरोप है कि कोविड- 19 एवं राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौर में जब भाजपा की केन्द्र सरकार को महामारी से निपटने में अपना पूरा ध्यान केन्द्रित कर जनता को राहत देनी चाहिये, ऐसे समय में आरएसएस के नेत्रत्व वाली केन्द्र और उत्तर प्रदेश की सरकार आक्रामक तौर पर भारतीय संविधान के सिध्दांतों को नष्ट करने पर उतारू है। इसके साथ ही सांप्रदायिक ध्रुवीकरण को धार देने के उद्देश्य से अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाने का कोई मौका नहीं छोड़ रही हैं।

वामदलों ने कहा कि संविधान के प्रत्येक संस्थानों एवं प्राधिकरणों संसद, न्यायपालिका, चुनाव आयोग, सीबीआई, ईडी आदि को सीमित करने के हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं तथा जनतान्त्रिक अधिकारों एवं नागरिक आजादी पर तीखे हमले किये जा रहे हैं। सरकार विरोधी हर आवाज को राष्ट्रद्रोह की संज्ञा दी जा रही है। आम नागरिकों के साथ ही बुद्धिजीवी राजनीतिक, सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों को राजद्रोह की धाराओं में जेल भेजा जा रहा है।

वामदलों ने कहा कि हमारे संविधान की बुनियादी विशेषता संघवाद है

वामदलों ने कहा कि हमारे संविधान की बुनियादी विशेषता संघवाद है, जिसके सिद्धांतों को नकारते हुये सभी शक्तियों को केन्द्र सरकार में केन्द्रित करने का प्रयास किया जा रहा है। ऐसी स्थिति में जनता को एकजुट हो कर संविधान की रक्षा और अपनी स्वतन्त्रता को सुद्रढ़ करने के लिए आवाज उठाना जरूरी हो गया है। स्वतन्त्रता दिवस पर हम सबको इसकी शपथ लेनी है।

भारत को अमेरिका का पिछलग्गू ना बनाओः वामदल

ये भी पढ़ें:श्रीकृष्ण जन्माष्टमी: मथुरा में पहली बार होगा ऐसा, पवित्र जल से होगा अभिषेक

केन्द्र की भाजपा सरकार दुनियाँ पर बादशाहत कायम करने की अमेरिकी ख्वाहिशों को पूरा करने के लिये उसका हर तरह से सहयोग कर रही है। यह सब हमारे देश और देश की जनता के हित में नहीं है। भारत को अपनी स्वतंत्र विदेश नीति पर कायम रहना चाहिये। अमेरिका या अमेरिकी- इजरायल गठजोड़ के पक्ष में विदेश नीति हमारी संप्रभुता और आत्मनिर्भर्ता को कमजोर करेगी। अतएव 1 सितंबर को भारत को अमेरिका का पिछलग्गू बनाने का विरोध किया जायेगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story