विधान परिषदः आजम पर हो रहे मुकदमों को लेकर सपा वेल में उतरी, हंगामा

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन ने कहा कि आजम खां पर सरकार लगातार मुकदमें दर्ज कर रही है। इसकी जितनी भी निन्दा की जाये कम है। उन्होंने कहा कि अधिकारी निरंकुश हो गये हैं। सरकार का इन अधिकारियों पर कोई जोर नहीं है।

लखनऊ: बजट सत्र के दूसरे दिन आज विधान परिषद में समाजवादी पार्टी ने अपने नेता आजम खान पर लगातार हो रहे मुकदमों का मामला उठाते हुए सरकार को घेरा। उत्तेजित सदस्य वेल में आ गये और सरकार पर अपने एक सांसद व दो विधायकों पर फर्जी मुकदमा दर्ज कराने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी करने लगे। प्रश्न प्रहर इसी हंगामे की भेंट चढ़ गया।

कांग्रेस सदस्यों ने किया वाकआउट

किसानों के मुद्दे पर सरकार के जवाब से असंतुष्ट हो कांग्रेस सदस्यों ने वाकआउट किया। वहीं नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के मुद्दे पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्यों में कई बार तीखी नोक-झोंक हुयी।

 

ये भी देखें : पुलवामा दिवस: सम्मानित हुए इन शहीदों के परिजन, गांवों में बनेंगी पक्की सड़कें  

सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन ने कहा कि आजम खां पर सरकार लगातार मुकदमें दर्ज कर रही है। इसकी जितनी भी निन्दा की जाये कम है। उन्होंने कहा कि अधिकारी निरंकुश हो गये हैं। सरकार का इन अधिकारियों पर कोई जोर नहीं है। अधिकारी मंत्रियों तक की बात नहीं सुन रहे हैं। उत्तर प्रदेश में स्थिति बहुत खराब है। एक सांसद और दो विधायकों समेत लाखों लोगों पर फर्जी मुकदमे लगाये जा रहे हैं और कहीं भी कोई सुनवाई नहीं है।

मामला रामपुर का

यह सब लोगों के बीच भय व दहशत का माहौल बनाने के लिए किया जा रहा है। नेता सदन उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि सदस्य किस नियम के तहत यह मामला उठा रहे हैं। सभापति रमेश यादव ने भी सदस्यों से कहा कि मामला रामपुर का है जब आपने कोई सूचना नहीं दी है तो नेता सदन जवाब कैसे देंगे।

 

ये भी देखें : अर्थव्यवस्था की रफ्तार पर, वित्त मंत्री ने दिया ऐसा बयान, जानिए क्या कहा-

इस पर समाजवादी पार्टी के सदस्य उत्तेजित हो गये और फर्जी मुकदमें वापस लो के नारे लगाते हुए वेल में आ गये। सभापति के अनुरोध पर भी जब सदस्य शांत नहीं हुए तो उन्होंने सदन की कार्यवाही को आधे घण्टे के लिए स्थगित कर दिया। जिसका समय बाद में बढ़ाकर बारह बजे तक कर दिया।