लॉकडाउन के इस दौर में इन कामों से चर्चा में पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय

ऊंचाहार में राजनीति के साथ सामाजिक जीवन में सक्रिय भूमिका निभा रहे डा. मनोज पाण्डेय के सम्बंध में क्षेत्रीय नागरिकों का कहना है कि कोरोना के इस अभूतपूर्व संकटकाल में विधायक घर के सदस्य की तरह खड़े नजर आए हैं।

रायबरेलीः लॉकडाउन के इस दौर में समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय गरीबों मजदूरों की मदद के साथ अपने समाज सेवा के कार्यों के लिए कुछ ज्यादा ही जाने जा रहे हैं।

ऊंचाहार के विधायक डॉक्टर मनोज पांडे अपने काफिले के साथ लखनऊ से रायबरेली आ रहे थे, तभी अचानक उनकी नजर बाइक से दुर्घटनाग्रस्त हुए युवक पर पड़ी जो सड़क के किनारे पड़ा कराह रहा था। लोग अगल बगल से देखते हुए या नजरें चुराते हुए आगे बढ़ते चले जा रहे थे। कुछ कोरोना का खौफ तो कुछ पुलिस के झमेले में पड़ने की जल्दी कोई रुकना नहीं चाह रहा था। विधायक मनोज पाण्डेय का काफिला जब वहां से गुजरा तो उनकी नजर घायलों पर पड़ी। स्थिति को समझते ही अनायास उन्होंने अपने ड्राइवर को गाड़ी किनारे लगाने को कहा, खुद गाड़ी से उतरकर उस व्यक्ति के पास गए,स्थानीय प्रभारी निरीक्षक जीडी शुक्ला को फोन करके आनन-फानन में घायल युवक को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया।

इसे भी पढ़ें

कोरोना महादेव की एंट्री: रिटायर थानेदार ने बनवाया मंदिर, जानिए क्यों रखा ये नाम

कुछ दिन पूर्व इसी तरह की घटना फतेहपुर मोहलिया जमालपुर भदोखर थाना के पास हुई जिसमें मोटरसाइकिल व सांड की टक्कर में एक नौजवान बुरी तरह चोटिल होकर सड़क किनारे पड़ा कराह रहा था। डॉक्टर पांडेय ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए और तुरंत वाहन की व्यवस्था ना हो पाने की स्थिति में अपने निजी वाहन से ही व्यक्ति को जिला अस्पताल पहुंचाया। इसके अलावा  युवक के इलाज के लिए अस्पताल प्रबंधन को फोन भी किया।

इसे भी पढ़ें

यूपी में कोरोना के 3,383 सक्रिय मामले, अब तक 5,257 मरीज इलाज से हुए ठीक

ऊंचाहार में राजनीति के साथ सामाजिक जीवन में सक्रिय भूमिका निभा रहे डा. मनोज पाण्डेय के सम्बंध में क्षेत्रीय नागरिकों का कहना है कि कोरोना के इस अभूतपूर्व संकटकाल में विधायक घर के सदस्य की तरह खड़े नजर आए हैं।