×

अब इस कांग्रेसी नेता की गिरफ्तारी पर विवाद, पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ने बताया गैरकानूनी

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पूरे प्रदेश में भाजपा सरकार दमन का चक्र चला रही है। आये दिन पुलिस के दम पर लोकतंत्र को कुचला जा रहा है।

Aradhya Tripathi
Published on 30 Jun 2020 4:14 PM GMT
अब इस कांग्रेसी नेता की गिरफ्तारी पर विवाद, पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ने बताया गैरकानूनी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने अपने अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम की गिरफ्तारी को गैरकानूनी और अति निंदनीय बताया है। पार्टी का कहना है कि शाहनवाज आलम को अवैध तरीके से सादी वर्दी में कुछ पुलिस वालों ने अगवा किया और दो घंटे तक उनके बाबत कोई भी जानकारी नहीं दी गयी।

भाजपा सरकार दमन का चक्र चला रही- अजय लल्लू

पार्टी प्रवक्ता ने बताया कि सोमवार देर शाम कांग्रेस नेता शाहनवाज आलम को पुलिस ने गोल्फ लिंक अपार्टमेंट्स के गेट से असंवैधानिक तरीके से उठा लिया और लगभग घण्टे भर किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं दी। उन्होंने बताया कि मंगलवार सुबह प्रदेश कांग्रेस कार्यालय से शाहनवाज आलम की अवैध गिरफ्तारी का विरोध दर्ज कराने जा रहे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और नेता विधायक दल आराधना मिश्रा समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और शाम 4 बजे रिहा किया।

ये भी पढ़ें- भारत खरीदेगा ये खतरनाक बम: दुश्मन को मिनटों में करेगा ख़ाक, ऐसी है खासियत

इधर, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पूरे प्रदेश में भाजपा सरकार दमन का चक्र चला रही है। आये दिन पुलिस के दम पर लोकतंत्र को कुचला जा रहा है। अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम की देर रात गिरफ्तारी अवैध , अलोकतांत्रिक और निंदनीय है। कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता जनता के मुद्दों पर आवाज उठाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। भाजपा सरकार यूपी पुलिस को दमन का औजार बनाकर दूसरी पार्टियों को आवाज उठाने से रोक सकती है, कांग्रेस को नहीं। यह पुलिसिया कार्रवाई दमनकारी और आलोकतांत्रिक है।

सरकार विपक्ष की आवाज दबाना चाहती है- आराधना मिश्रा मोना

कांग्रेस विधायक दल की नेता श्रीमती आराधना मिश्रा मोना ने इस पुलिसिया राज की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि यह योगी आदित्यनाथ की सरकार का राजनीतिक द्वेषपूर्ण और कायरता भरा कदम है। सरकार विपक्ष की आवाज दबाना चाहती। कांग्रेस के बढ़ते प्रभाव से योगी सरकार की बौखलाहट साफ साफ दिख रही है।

ये भी पढ़ें- डॉक्टर्स डे: कोरोना सकंट में कोई बच्चों से हैं दूर, तो किसी ने टाल दी शादी

कांग्रेस अनुसूचित विभाग के उपाध्यक्ष तनुज पुनिया ने कहा कि सत्ता पोषित दमन से हम राहुल-प्रियंका के सिपाही डरेंगे नहीं, सड़क पर संघर्ष करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में संघर्ष की लम्बी और शानदार परंपरा रही है। लोकतंत्र को बचाने के लिए दलित-पिछड़ा विरोधी योगी सरकार के खिलाफ अब हम सड़कें गरम करेंगे।

Aradhya Tripathi

Aradhya Tripathi

Next Story