‘चाची’ मेनका ने प्रियंका पर बोला हमला: CAA पर कह दी इतनी बड़ी बात

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 (CAA) के होने के बाद से ट्वीटर से लेकर सड़क तक इस मुद्दे पर एग्रेसिव हैं। मीडिया में उनके अब तक कई बयान आ चुके हैं। इसी क्रम में सोमवार 30 दिसम्बर को राज्यपाल को सीएए और एनआरसी को लेकर ज्ञापन सौंपा।

लखनऊ. कड़ाके की ठंड में देश-प्रदेश में सर्दी का असर देखने को मिल रहा। इसके ठीक विपरीत नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 (CAA) के सदन में पास होने के बाद से राजनैतिक पारा पूरा गर्म है। यही नहीं एक्ट लागू होने के बाद सत्ता पक्ष, विपक्ष की जुबानी जंग के बीच गांधी परिवार भी आमने-सामने हो चला है। वो ऐसे की सोनिया परिवार बनाम मेनका परिवार के मध्य की खाई सीएए के मुद्दे पर और गहरी हो गई है।

1947 के विभाजन के बाद सताए गए सभी अल्पसंख्यकों को मिल सकती है भारतीय नागरिकता

पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सुल्तानपुर सांसद मेनका संजय गांधी ने सोमवार रात ने ट्वीट वाल पर अप्रत्यक्ष रूप कांग्रेस की सत्तर साला हुकूमत पर हमलावर बोला है। मेनका ने ट्वीट कर लिखा है कि ”नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 के साथ, मोदी सरकार पिछले सात दशकों के गलतियों को कम कर रही है।”

मेनका ने आगे लिखा है कि 1947 के विभाजन के बाद सताए गए सभी अल्पसंख्यकों को अब भारतीय नागरिकता मिल सकती है। मेनका ने ये भी लिखा है कि सताए गए लोगों को शरण देने के भारत के ऐतिहासिक लोकाचार को आगे बढ़ाते हुए, मोदी सरकार ने नागरिकता संशोधन विधेयक पारित किया। पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दी जाएगी। #IndiaSupportsCAA

ये भी पढ़ें—यादें 2019 की: सुप्रीम कोर्ट के वो बड़े फैसले, जिन्होंने बदल दी देश की तस्वीर…

प्रियंका ने उठाई CAA-NRC के खिलाफ हुए प्रदर्शनों में पुलिस दमन की न्यायिक जांच की मांग

उधर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 (CAA) के होने के बाद से ट्वीटर से लेकर सड़क तक इस मुद्दे पर एग्रेसिव हैं। मीडिया में उनके अब तक कई बयान आ चुके हैं। इसी क्रम में सोमवार 30 दिसम्बर को राज्यपाल को सीएए और एनआरसी को लेकर ज्ञापन सौंपा। जिसे रात में उन्होंने अपने ट्वीटर एकाउंट पर शेयर करते हुए लिखा कि आज उप्र की राज्यपाल महोदया को एक ज्ञापन सौंपकर नागरिकता कानून व एनआरसी के खिलाफ हुए प्रदर्शनों में शांतिपूर्ण ढंग से शामिल लोगों के खिलाफ पुलिस दमन की न्यायिक जांच की मांग की। आपको बता दें कि 23 दिसम्बर सोमवार को सोनिया गांधी ने वीडियो जारी कर कहा था कि, मोदी सरकार बर्बरता से लोगों की आवाज कुचलने की कोशिश कर रही है।

ये भी पढ़ें—अयोध्या पर बड़ी खबर: मुस्लिमों को यहां मिलेगी मस्जिद के लिए जमीन

सुल्तानपुर में भी CAA का किया था समर्थन, NRC पर फेर लिया था मुंह

ग़ौरतलब हो कि मेनका गांधी 26 दिसम्बर से अपने संसदीय क्षेत्र सुल्तानपुर के चार दिवसीय दौरे पर थीं। शनिवार 28 दिसम्बर को यहां मीडिया से बात करते हुए उन्होंने CAA के मुद्दे पर कहा था कि बिल के पास होने से पीलीभीत में बहुत हर्ष है। वहां क़रीब एक लाख बंगाली हैं जो उस समय के बैठे हैं। न उनके पास देश था न कुछ था। हम लोग कितने सालों से प्रयास कर रहे थे उनको नागरिकता जरूर मिल जाएगी।

ये भी पढ़ें—जानें कौन हैं मनोज मुकुंद नरवाने, जो बनने वाले हैं नए आर्मी चीफ

हालांकि मेनका गांधी मीडिया द्वारा एनआरसी को लेकर किए गए सवाल पर ठोस बयान देने के बजाए बचाव की मुद्रा में दिखी और मुंह फेर कर चल दीं थी। अब जब वो ट्वीट कर कांग्रेस पर आक्रमक हुईं हैं तो उन्होंने NRC के मुद्दे पर अपना पक्ष रखने से परहेज किया है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App