विकास दुबे पर मायाः मिले सख्त सजा, राजनीतिक व सरकारी आकाओं को लपेटा

मायावती ने कहा है कि इतना ही नहीं बल्कि जनता को इस बात की भी प्रतीक्षा है कि विकास दुबे के साथ-साथ उसके जघन्य अपराधों से जुड़े व सम्बंधित सभी सरकारी व राजनीतिक संरक्षकों और षडयंत्रकारियों को भी उत्तर प्रदेश सरकार जल्द से जल्द सख्त सजा जरूर दिलाए।

लखनऊ। कानपुर मुठभेड़ कांड के मुख्य आरोपी और पांच लाख के ईनामी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद अब तमाम विपक्षी दलों ने यूपी की योगी सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने जहां विकास की गिरफ्तारी पर सवाल उठाते हुए सरकार से पूछा है कि यह गिरफ्तारी है या आत्मसमर्पण तो वहीं कांग्रेस महासचिव व यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने विकास दुबे के यूपी से निकल कर उज्जैन पहुंचने को यूपी सरकार की बड़ी नाकामयाबी करार देते हुए पूरे मामलें की सीबीआई जांच की मांग की है। इसी क्रम में बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने यूपी सरकार से विकास दुबे के राजनीतिक और सरकारी आकाओं को उजागर कर उन्हें सख्त सजा दिलाने की मांग की है।

अब बिट्टू भैया ने उड़ायी पुलिस की नींद, वह वकील है या कोई गुर्गा

देश की जनता को इन्तजार

मायावती ने गुरुवार शाम को ट्वीट कर कहा है कि कानपुर-काण्ड का दुर्दान्त अपराधी विकास दुबे को काफी लम्बी जद्दोजहद के बाद अन्ततः मध्यप्रदेश पुलिस द्वारा गिरफ्त में लिए जाने के बाद अब इसके तमाम आपराधिक सांठगांठ व माफियागिरी आदि का पर्दाफाश होने का यूपी व देश की जनता को काफी इन्तजार है। मायावती ने कहा है कि इतना ही नहीं बल्कि जनता को इस बात की भी प्रतीक्षा है कि विकास दुबे के साथ-साथ उसके जघन्य अपराधों से जुड़े व सम्बंधित सभी सरकारी व राजनीतिक संरक्षकों और षडयंत्रकारियों को भी उत्तर प्रदेश सरकार जल्द से जल्द सख्त सजा जरूर दिलाए।

कोरोना: दिल्ली में अब तक 6,79,831 टेस्ट किए गए- गृह मंत्रालय

मायावती ने सरकार से की मांग

बता दे कि इससे पहले इस मामलें में बसपा सुप्रीमों ने करीब 06 दिन पहले घटना वाले दिन ही टवी्ट किया था कि कानपुर में शातिर अपराधियों द्वारा एक भिडन्त में डिप्टी एसपी सहित 08 पुलिसकर्मियों की मौत व 07 अन्य के आज तड़के घायल होने की घटना अत्यंत दुखद शर्मनाक व दुर्भाग्यपूर्ण। स्पष्ट है कि यूपी सरकार को खासकर कानून-व्यवस्था के मामलें मे और भी अधिक चुस्त व दुरूस्त होने की जरूरत है।
मायावती ने कहा था कि इस सनसनीखेज घटना के लिए अपराधियों को सरकार को किसी भी कीमत पर छोड़ना नहीं चाहिए, चाहे इसके लिए विशेष अभियान चलाने की जरूरत क्यों न पड़े। मायावती ने मांग की थी कि सरकार, मृतक पुलिस के परिवार को समुचित अनुग्रह राशि के साथ परिवार के किसी सदस्य को नौकरी भी दे।

रिपोर्ट- मनीष श्रीवास्तव, लखनऊ

पुलिस कार्रवाई जारीः कानपुर देहात के सट्टी में दबोचा गया, 12 हजार का इनामी

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App