×

जब तक कानून नहीं बनता हिंदू हम दो हमारे पांच की सिद्धांत पर चलें: बीजेपी नेता

वरना एक दिन हमारे वजूद, हमारी बड़ी-बड़ी इमारतों पर खतरा खड़ा हो जाएगा। इतना ही नहीं, देश में दूसरे पाकिस्तान की मांग खड़ी होगी और हमें दूसरा पाकिस्तान बनाना पड़ेगा।

Newstrack
Published on 22 March 2021 9:18 AM GMT
जब तक कानून नहीं बनता हिंदू हम दो हमारे पांच की सिद्धांत पर चलें: बीजेपी नेता
X
जब तक कानून नहीं बनता हिंदू हम दो हमारे पांच की सिद्धांत पर चलें: बीजेपी नेता (PC: social media)
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मेरठ: वैश्य समाज सेवा समिति परिषद द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष विनीत अग्रवाल शारदा एक बार फिर विवादित बयान दे गए। उन्होंने परिवार नियोजन के 'हम दो, हमारे दो' के नियम को सौतेला बताते हुए कहा कि अब हमें 'हम दो, हमारे पांच' का सिद्धांत अपनाना होगा।

ये भी पढ़ें:कोरोना की दूसरी लहर- नए स्ट्रेन बन सकते हैं जान की आफत, ये जानकारी बेहद जरूरी

हमारी बड़ी-बड़ी इमारतों पर खतरा खड़ा हो जाएगा

वरना एक दिन हमारे वजूद, हमारी बड़ी-बड़ी इमारतों पर खतरा खड़ा हो जाएगा। इतना ही नहीं, देश में दूसरे पाकिस्तान की मांग खड़ी होगी और हमें दूसरा पाकिस्तान बनाना पड़ेगा। भाजपा नेता शारदा ने कहा नहीं तो सरकार एक नियम बना दे उनके भी दो हमारे भी दो। सरकार हिंदू समाज के साथ सौतेला व्यवहार ख़त्म करें। वरना तब तक वैश्य समाज से अपील है कि हम दो हमारे पांच के सिद्धांत को अपनाए।

भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष विनीत अग्रवाल शारदा ने कहा

भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष विनीत अग्रवाल शारदा ने कहा कि मेरा साफ कहना है, सरकार एक नियम बना दे, जनसंख्या बढ़ रही है, हम भी साथ हैं। हम दो हमारे दो के सिद्धांत में सौतेला व्यवहार न हो। मुसलमान कहते हैं, मैं एक, मेरी तीन और मेरे अठारह। हम कहते हैं हम दो, हमारे दो। जब देश आजाद हुआ था वे कितने थे, हम कितने थे, आज हम कितने रह गए हैं? वे कितने हो गए हैं? 25 साल के बाद क्या होगा? फिर भारत माता रोएगी। दूसरे पाकिस्तान की मांग उठेगी।

वैश्य समाज हम दो हमारे दो के सिद्धांत को खत्म करे

इसीलिए हम कहते हैं कि वैश्य समाज हम दो हमारे दो के सिद्धांत को खत्म करे। हम दो, हमारे पांच का सिद्धांत अपनाए। जिनमें से एक बच्चे को राजनीतिक ज्ञान, एक बच्चे को बहन बेटियों की रक्षा के लिए लोहा (हथियार) खरीदना सिखाएं। एक बच्चे को आईएएस, डॉक्टर, इंजीनियर बनाकर भारत में रहने की शिक्षा दे। एक बच्चे को व्यापारिक शिक्षा देकर व्यापार करना सिखाएं। एक बच्चे को इस देश की रक्षा के लिए सेना में भेजें।

ये भी पढ़ें:अनोखी डिप चाय: वो भी बिना टी बैग वाली, दो दोस्तों ने मिलकर किया ये कमाल

उन्होंने कहा कि पांच बच्चों का आह्वान इसीलिए भी है कि 25 साल के बाद हमारे बच्चे हमसे पूछेंगे? क्योंकि सारे रिश्ते खत्म हो जाएंगे। ताऊ किसको कहते हैं? चाचा किसको कहते हैं? मामा किसको कहते हैं? बुआ किसको कहते हैं? हमें रिश्ते खत्म नहीं करने हैं। इस मौके पर विनीत शारदा का प्रतीक चिन्ह दे कर सम्मान किया गया।

रिपोर्ट- सुशील कुमार

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story