वाह रे राजनीति: इमरजेंसी वार्ड में करा दिया मंत्री का दौरा, भर्ती थे कोरोना संक्रमित

मामले का खुलासा होने पर भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विनीत अग्रवाल शारदा जो मंत्री के साथ निरीक्षण के दौरान मौजूद थे अपने आवास पर होम क्वारंटाइन हो गए हैं।

दौरे पर मंत्री

दौरे पर मंत्री

मेरठ: मेडिकल कालेज की इमरजेंसी में भर्ती 5 मरीजों में कोरोना संक्रमित मिलने से मेरठ से लेकर प्रदेश तक हड़कंप मच गया है। दरअसल,गत सोमवार को इसी मेडिकल इमरजेंसी को प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने दौरा किया था। उनके साथ जिले डीएम अनिल ढींगरा सीएमओ राजकुमार आदि आलाधिकारियों के अलावा जिले के भाजपाई भी मंत्री के साथ ही थे।

मंत्री अपने लोगों के साथ इमरजेंसी वार्ड की होल्डिंग एरिया में गए थे। वहां भर्ती 5 मरीजों में मंगलवार को कोरोना संक्रमण की पुष्टि से इनमें से दो मरीज मेरठ के और एक हापुड़ का है। इन मरीजों से मंत्री ने उनका हाल भी जाना था। मंत्री के निरीक्षण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया था। इमरजेंसी के बाहर तीमारदारों से बातचीत के दौरान तो काफी भीड़ जुट गई थी।

केशव प्रसाद मौर्य ने पत्रकारों को माना कोरोना योद्धा, दिया ये बयान

निरीक्षण के दौरान थे मौजूद

इस मामले में मंत्री सुरेश खन्ना से लखनऊ में उनके कार्यालय में सम्पर्क करने पर पता चला है कि मंत्री किसी बैठक में गए हैं। इधर,मामले का खुलासा होने पर भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विनीत अग्रवाल शारदा जो मंत्री के साथ निरीक्षण के दौरान मौजूद थे अपने आवास पर होम क्वारंटाइन हो गए हैं। इसकी जानकारी देते हुए विनीत अग्रवाल शारदा ने कहां है कि मेरठ में एक जून को आयें उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना जी के द्वारा मेरठ मेडिकल का निरीक्षण किया गया था।

मरीजों का पास नहीं पहुंचा

उन्होंने कहा कि इस दौरान में भी साथ था परन्तु में जहां मरीज थे वहां नही पहुंचा था, लेकिन आज समाचार पत्रों के समाचार पढ़ने के बाद में खुद ही अपने आवास पर सेल्फ (होम क्वारंटाइन) हो गया हूं। हालांकि मंत्री के साथ दौरे पर मौजूद रहे शेष अफसरों व नेताओं ने खुद को होम क्वारंटाइन किया है अथवा नही इसके बारे में समाचार लिखे जाने समय तक जानकारी नही मिल सकी है।

मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एसके गर्ग का कहना है कि प्रमुख सचिव को इस बाबत जानकारी दे दी गई है। निरीक्षण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग अपनाई गई थी। उनका कहना है कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री व अन्य लोग मंत्री काफी दूर थे। मंत्री सुरेश खन्ना ने मास्क लगा रखा था और सैनिटाइजर का लगातार इस्तेमाल किया जा रहा था। वैसे भी नियम अनुसार संक्रमित व्यक्ति से करीब 15 मिनट संपर्क में रहने पर ही संपर्क माना जाता है।

रिपोर्टर – सुशील कुमार, मेरठ

अभी-अभी बड़ा ऐलान: मोदी सरकार ने किसानों को दी खुशखबरी, इसे मिली मंजूरी