काशी विद्यापीठ के छात्रों ने परीक्षा कराने का किया विरोध, कही ये बड़ी बात

गुरुवार को जिले में स्थित जीडी बिनानी पीजी कॉलेज के छात्रों ने कॉलेज के गेट पर बैठकर परीक्षा न कराने को लेकर प्रदर्शन किया।

मीरजापुर: जिले में कोरोना महामारी को देखते हुए महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की बची परीक्षाओं को कराने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन ने संबंधित विश्वविद्यालयों को परीक्षा को लेकर पत्र जारी कर निर्देशित किया है। इसके साथ ही जुलाई माह में शेष बची परीक्षाओं को कराने को लेकर भी विचार किया जा रहा है। लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन के इस निर्णय के विरोध में अब छात्रों ने मोर्चा खोल दिया है।

छात्रों ने किया परीक्षा का विरोध

छात्रों का कहना है कि हमारे लिए जीवन महत्वपूर्ण है और अपने प्राणों की रक्षा के लिए हम परीक्षा का भी त्याग करेंगे। गुरुवार को जिले में स्थित जीडी बिनानी पीजी कॉलेज के छात्रों ने कॉलेज के गेट पर बैठकर परीक्षा न कराने को लेकर प्रदर्शन किया।

ये भी पढ़ें-  मानो या ना मानो मगर सच है, ऐसे झूठ से बढ़ता है पार्टनर में प्यार

प्रदर्शन कर छात्रों ने कुलपति को संबोधित पत्रक कॉलेज के प्राचार्य को सौपा। पत्र सौंपते हुए छात्र नेता आदित्य मौर्य ने कहा कि कॉलेज प्रशासन जुलाई माह में परीक्षा कराने की बात कर रही है, ऐसे में हम सभी छात्र परीक्षा कराने का विरोध करते हैं।

छात्र नेता ने की परीक्षा कराने के निर्णय को वापस लेने की मांग

ये भी पढ़ें-    प्रस्तावित ग्रामीण पेयजल परियोजनाओं का SDM ने लिया जायजा, दिए ये निर्देश

देश में कोरोना महामारी दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है। इस बीच में कॉलेज प्रशासन द्वारा शेष बची परीक्षा को कराने का निर्णय बहुत ही गलत है। अगर ऐसे में कोई छात्र कोरोना संक्रमित हो जाता है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा। आदित्य मौर्य ने मांग किया कि संक्रमण के बीच में परीक्षा कराने का निर्णय वापस लिया जाय, अगर ऐसे समय में परीक्षा होता है तो हम अपने प्राण बचाने के के लिए परीक्षा का त्याग करेंगे। इस दौरान आनंद यादव, प्रभुनारायण द्विवेदी, मनमोहन सिंह, ओजस्वी पटेल, अरविंद यादव, वीरेंद्र पाल आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट: बृजेन्द्र दुबे

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App