प्रस्तावित ग्रामीण पेयजल परियोजनाओं का DM ने लिया जायजा, दिए ये निर्देश

डीएम ने कहाकि यह सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना है। इसलिए योजना को गुणवत्ता बनाकर जनमानस को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराना राज्य सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है।

मिर्जापुर: जिला अधिकारी सुशील कुमार पटेल ने गुरुवार को कलेक्ट्रेट में बुंदेलखंड क्षेत्र के लिए भागीरथी परियोजना के अंतर्गत प्रस्तावित ग्रामीण पाइप पेयजल के संबंध में बैठक कर जायजा लिया। इस दौरान अधिशासी अभियंता जल निगम द्वारा बताया गया कि जनपद में वर्ष 2011 जनगणना के आधार पर जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में पाइप योजनाओं को लागू करने के लिए योजना संचालित की जा रही है।

जिलाधिकारी ने की बैठक

अधिशासी अभियंता जल निगम ने कहा कि योजना का मुख्य उद्देश्य बुंदेलखंड तथा विंध्यक्षेत्र जल फ्लोराइड एवं अन्य पेयजल के क्रियान्वयन हेतु शुद्ध पेयजल एवं स्वच्छता मिशन द्वारा चयनित कंसलटेंट के माध्यम से डीपीआर बनाने की कार्यवाही की जा चुकी है। जिलाधिकारी ने कहाकि यह राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना है। इसलिए योजना को गुणवत्ता बनाकर जनमानस को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जाना राज्य सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है। जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता को निर्देशित किया कि पूर्व में संचालित जल निगम द्वारा 20 पेयजल पाइप परियोजना जो वर्ष 1980 के आसपास बनाए गए थे।

ये भी पढ़ें-    गजब: ये शख्स करता है करोड़ों की कार में आम की डिलीवरी, साथ में फ्री राइड का मजा

उन्हें विभिन्न बुंदेलखंड योजना के विंध्य क्षेत्र के लिए बनाई गई डीपीआर में सर्वे के उपरांत सम्मिलित करते हुए प्रस्तुत किए जाएं। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा यह भी कहा गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में परियोजना के लिए 308 जगह चयनित कर 228 स्थानों पर जमीन प्राप्त कर ली गई है शेष के लिए भूमि को प्राप्त कर अगली बैठक में प्रस्तुत किया जाए। ग्राम पंचायत स्तर से लिए जाने वाले संकल्प पत्र में मांगों को सम्मिलित करना हैं। संशोधित डीपीआर आगामी बैठक में प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अविनाश, परियोजना निदेशक, जिला पंचायत राज अधिकारी, डीसी मनरेगा, अधिशासी अभियंता जल निगम के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

जिले के पार्ष इलाके में भरा सीवर का पानी जनजीवन अस्तव्यस्त

शहर के पार्ष इलाके भरूहना स्थित विंध्यवासिनी कॉलोनी में चंद दिनों की बारिश ने सरकार के दावों की पोल खोल कर रख दी। जिसके विरोध में विंध्यवासिनी कॉलोनी के राहासियों ने गुरुवार के दिन जिलाधिकारी को पत्रक सौंपा। जिसमें कहा कि कॉलोनी में लगभग 150 से अधिक परिवार एवं इंटरमीडिएट कॉलेज स्थित हैं। यहां पर लगभग एक वर्ष से कॉलोनी के लोग जल निकासी की समस्या से जूझ रहे हैं। जल निकासी की व्यवस्था ध्वस्त हो जाने से सीवर का पानी लोगों के घरों में घुस रहा है। जिसकी वजह से लोगों का जीना दूभर हो गया है।

ये भी पढ़ें-    यूपी में रोजगार ही रोजगार: पीएम मोदी देंगे बड़ी सौगात, कल होगा आगाज

कालोनी में रहने वाले परिवारों के छोटे-छोटे बच्चे स्कूल तक नहीं जा पाते, घरों में पानी के माध्यम से जो कीड़े, जोंक पहुंच रहे हैं। कोरोना महामारी के समय बारिश में हैजा, कालरा जैसी महामारी फैलने की जबरदस्त संभावना बढ़ गयी है। कॉलोनी के राहासियों ने पानी निकासी व साफ सफाई के लिए जिलाधिकारी से गुहार लगाई है। इस मौके पर सर्वेश कुमार पांडेय, बृजेश सिंह, अनूप श्रीवास्तव, ममता पांडेय, राजेंद्र पांडेय, गायत्री देवी, निर्मला देवी, गुड्डू सिंह, रमाशंकर मिश्रा, लालचंद तिवारी, दिवाकर, आयुष कुमार सिंह आदि लोग उपस्थित रहे।

टिड्डी दलों ने मचाया आतंक, किसानों के चेहरे पर छायी मायूसी

ओलावृष्टि और भारी बारिश के बाद अब किसान पाकिस्तान से आये टिड्डी से परेशान है। जिले में गुरुवार को एक बार फिर पाकिस्तान से आए टिड्डियों के दल ने जिले में दस्तक दी गुरुवार को पाकिस्तान से आये टिड्डियों का दल ने सदर, मड़िहान, चुनार और लालगंज तहसील क्षेत्र में जमकर आतंक मचाया, जहां टिड्डियों ने कई खेतों में लगें फसलों को चट कर दिया। टिड्डियों को देखकर आस-पास के लोगों ने थाली पीटकर उन्हें भगाने का प्रयास किया। भारी संख्या में टिड्डियों को आकाश में उड़ता देख पक्षी भी जमीन पर बैठ गए, वहीं लोग भी डरे हुए दिखे। कछवां क्षेत्र में पाकिस्तान से चलकर आये टिड्डीयों के झुंड को देख कर कछवां क्षेत्र के लोगों में दहशत का माहौल बन गया।

ये भी पढ़ें-    पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर सपा ने सरकार को घेरा, कहा- इतिहास में पहली बार हुआ ऐसा

कछवां क्षेत्र के मझवां ब्लाक अंतर्गत हजारों की संख्या में टिड्डियों का झुंड आकर जमावड़ा बना लिया। टिड्डियों को देखकर ग्रामीण क्षेत्रों में किसान अपने खेतों में खड़े होकर तेज आवाज के साथ चिल्लाने लगे, जिसे देखकर टिड्डियों का दल नहीं रुका। वहीं कछवां नगर क्षेत्र से होते हुए वाराणसी की ओर निकल पड़ा। इस दौरान टिड्डियों ने पेड़ की पत्तियां व फसल को चट कर दिया। हलिया विकास खंड में भी गुरुवार को मध्य प्रदेश में दवा का छिडकाव होने के बाद पाकिस्तान से आये टिड्डियों का दल फिर शुक्रवार की देर रात हलिया बाजार में दिखा।

ये भी पढ़ें-    पुलिस ने संयुक्त प्रयास से ऐसे रोका बाल विवाह, अब पिता ने कही ये बात

भारी संख्या में टिड्डों का दल हलिया में पशुओं और फसल को क्षति पहुंचाया, वहीं पहाड़ी ब्लाक में गुरुवार की सुबह टिड्डियों का दल पहुंचने से लोगों में खलबली मच गई। सुबह टहलने के लिए निकले लोगों ने जैसे ही आसमान में भारी संख्या में टिड्डियों को आते हुए घर में छिप गए। इस दौरान टिड्डी दल ने अपना डेरा डाल दिया। लगातार इनकी संख्या में हो रही वृद्धि को देखकर किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ गई। वहीं हजारों की संख्या में क्षेत्र में पहुंची टिड्डी किसानों के लिए मुसीबत बन गई। जिन्हें देखकर ग्रामीणों में भय व्याप्त रहा। पहाड़ी ब्लाक के रसौरा, अकसौली, भगेसर होते हुए धरमदेवां, छटहां, रामनगर आदि गांव में भारी संख्या में देखी गई।

रिपोर्ट- बृजेन्द्र दुबे