इस वजह से महीने के अंत तक यूपी का दौरा करेंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत

भाजपा में बढ़ती उम्र के नेताओं के बाद नयी लीडरशिप तैयार करने के लिए इन दिनों राष्ट्रीय स्वंय सेवक मंथन करने में जुटा हुआ है। इसके लिए संघ प्रमुख जगह जगह कैम्प लगाकर युवाओं को राष्ट्रसेवा के रास्ते पर लाने के लिए दौरे कर रहे हैं। इसी सिलसिलें वह कुछ दिनों पहले कानपुर आ चुके हैं।

लखनऊ: भाजपा में बढ़ती उम्र के नेताओं के बाद नयी लीडरशिप तैयार करने के लिए इन दिनों राष्ट्रीय स्वंय सेवक मंथन करने में जुटा हुआ है। इसके लिए संघ प्रमुख जगह जगह कैम्प लगाकर युवाओं को राष्ट्रसेवा के रास्ते पर लाने के लिए दौरे कर रहे हैं। इसी सिलसिलें वह कुछ दिनों पहले कानपुर आ चुके हैं। संघ प्रमुख मोहन भागवत 29 जून को झांसी का दौरा करने के बाद अब लखनऊ का दौरा करेंगे।

यह भी पढ़ें…शहीद कपिलेश के अंतिम संस्कार में पंडे ने मांगे 51 सौ रुपए, पुलिस ने लिया हिरासत में

संघ सूत्रों ने बताया कि भाजपा हाईकमान के लिए नई पीढी को पैदा करना बेहद चुनौती पूर्ण कार्य है। संघ की रणनीति अटल आडवाणी युग के बाद जिस तरह से मोदी शाह युग तैयार किया गया। उसी तर्ज पर अब तीसरी पीढी को तैयार करना है।

यह भी पढ़ें…3.6 करोड़ कर्मचारियों को तोहफा देगी मोदी सरकार, इस दिन से होगी लागू

भाजपा में राजनाथ सिंह कलराज मिश्र, लालजी टंडन, ओमप्रकाश सिंह, डा रमापति राम त्रिपाठी के बाद नई पीढी को तैयार करना है। इन नेताओं की उम्र 70 के आसपास पहुंच रही है। इसलिए संघ को लगता है कि इन नेताओं के संरक्षण में ही नई पीढी को तैयार कर उज्जवल भारत की नीव मजबूत की जाए। जिससे 2024 के लोकसभा आने तक नई लीडरशिप तैयार हो जाए। संध के एक पदाधिकारी ने बताया कि संघ की यही कोशिश रहती है कि किस तरह से भाजपा और संघ में युवाओं को जोडा जाए।

यह भी पढ़ें…मुलायम सिंह फिर पीजीआई में हुए भर्ती, डॉक्टरों ने किए अल्ट्रासाउंड व लिवर संबंधी टेस्ट

ब्ताते चलें कि अभी कुछ दिनों पहले कानपुर में भी इसी तरह का आयोजन हुआ था जिसमें संघ प्रमुख मोहन भागवत ने लगातार कैम्प कर युवाओं को राष्ट्रचिंतन से परिचित कराया था। जिसमें लगभग 600 स्वयंसेवकों ने हिस्सा लिया था।