पक्षियों के लिए मसीहा है यह लड़का, जान जोखिम डालकर बचाता है उनका जीवन

आपने जंगलों में रहने वाले मोगली की कहानी तो सुनी ही होगी, लेकिन आज हम आपको मिलवाते हैं एक ऐसे रियल लाइफ के मोगली से जो जंगल में रह कर अपनी जान जोखिम में डालकर पक्षियों की जान बचाता है। पक्षियों की जान बचाने में उसे मजा आता है।

मुरादाबाद: आपने जंगलों में रहने वाले मोगली की कहानी तो सुनी ही होगी, लेकिन आज हम आपको मिलवाते हैं एक ऐसे रियल लाइफ के मोगली से जो जंगल में रह कर अपनी जान जोखिम में डालकर पक्षियों की जान बचाता है। पक्षियों की जान बचाने में उसे मजा आता है।

दअरसल लोगों आजकल पतंगबाजी का खूब लुत्फ उठाते हैं। साथ ही पंतग उड़ाने के लिए चानी मांझे का इस्तेमाल करते हैं। चीनी मांझा इतना खतरनाक होता है कि गर्दन तक कट जाती है। इस मांझे से कई लोगों की जान चली गई है और कई लोगों घायल भी हो चुके हैं।

अक्सर लोग गांव व शहर से वाहर की और खुले मैदान में पतंगबाजी करते हैं। पतंग कटने के वाद मांझे के साथ दूर जाकर गिर जाती है। जिसका माझां पेड़ों में उलझ जाता है और चीनी मांझा मजबूत होने की बजह से टूट नहीं पाता है। जंगलों में आज कल पक्षियों को पेड़ पर चीनी मांझे से उलझता देखा जाना आम बात हो गई है। आसमान में उड़ान भरने वाले जानवर पेड़ों पर आराम करने के लिए जैसे बैठते हैं तो अचानक मांझे में उलझ जाते है। सैकड़ों फिट ऊचें ऊंचें पेड़ों में उलझकर यह पक्षी अपनी जान गवा देते हैं।

यह भी पढ़ें…पित्रोदा के बयान के बहाने जेटली का राहुल पर तंज, कहा- गुरु ऐसा है तो शिष्य कितना निकम्मा निकलेगा

मुरादाबाद जनपद के छोटे से कस्बे कुन्दरकी में रहने वाले 13 साल के छोटे से बच्चे सोहिल का कारनामा जानकर आप उसकी तारीफ करेंगे। आज कल पक्षियों के लिए सोहिल देवदूत बना हुआ है। महज 13 साल का यह छोटा सा बच्चा अपनी जान जोखिम में डालकर सैकड़ों फिट ऊचें और खतरनाक पेड़ों पर चढ़कर पक्षियों की जान बचाता है।

सोहिल का कहना है उसे ऐसा करने में मजा आता है और ख़ुशी मिलती है। एक बार आसमान में झुंड बनाकर उड़ने वाले कौआ का एक बच्चा अचानक आसमान में उड़ान भरकर थक जाता है और आराम करने के लिए वह जैसे ही पेड़ पर बैठने की कोशिश करता है तो वहां पड़े चानी मांझे में फंस जाता है।

यह भी पढ़ें…प्रेम प्रसंग में प्रेमी की हत्या, परिजनों ने प्रेमिका के परिवार पर लगाया आरोप

काफी देर तक वह मांझे से निकलने की जिद्दोजहद करता है परंतु वह उससे निकल नहीं पाता है। अपने साथी को पेड़ में फंसा देख साथी कौवे आसमान में हल्ला मचा देते हैं। जैसे ही पेड़ पर जानवर फंसा होने की सुचना सोहिल को मिलती है तो वह दौड़कर आता है और लगभग 50 से 60 फीट की ऊंचाई वाले खतरनाक पेड़ पर चढ़कर रेस्क्यू कर कौआ की जान बचा देता है।

यह भी पढ़ें…वेनेजुएला के राष्ट्रपति ने गुइदो के शीर्ष सहायक को गिरफ्तार करने का दिया आदेश

सोहिल के अक्सर किये जाने वाले इस कारनामे से आसपास के लोग बेहद प्रभावित हैं और उसकी काफी प्रशंसा करते हैं। सोहिल एक गरीब परिवार से है और उसके पिता मेहनत मजदूरी करते हैं। सोहिल खाली समय में अक्सर जंगलों में घूमने निकल जाता है।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App