मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास ने एक लाइसेंस पर ले रखें हैं छः असलहे

बाहुबली नेताओं व कुख्यात अपराधियों के लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा जुटाने की कसरत तेज कर दी गई है। शासन के निर्देश पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के परिवार के दो दर्जन से अधिक असलहों का ब्योरा जुटाया है।

मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास ने एक लाइसेंस पर ले रखें हैं छः असलहे

मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास ने एक लाइसेंस पर ले रखें हैं छः असलहे

लखनऊ डेस्क: बाहुबली नेताओं व कुख्यात अपराधियों के लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा जुटाने की कसरत तेज कर दी गई है। शासन के निर्देश पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के परिवार के दो दर्जन से अधिक असलहों का ब्योरा जुटाया है।

पढ़ें…

लखनऊ: मुख्तार अंसारी के प्रतिनिधि और घायल शाहिद जाफरी को लखनऊ पुलिस ने किया गिरफ्तार

मुख्तार अंसारी के गुर्गों को बदमाशों ने मारी गोली, हालत गंभीर

इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास के एक शस्त्र लाइसेंस पर छह असलहे चढ़े होने की बात सामने आई है।

एसटीएफ ने दी जानकारी:

अब्बास के शस्त्र लाइसेंस पर तीन रायफल, दो बंदूक व एक पिस्टल हासिल किये जाने के तथ्यों की पुलिस छानबीन कर रही है।

दरअसल, एसटीएफ ने इस मामले में लखनऊ पुलिस को जानकारी दी थी और जांच के लिए लिखा था।

गाजीपुर के मुहम्मदाबाद थाने के हिस्ट्रीशीटर मुख्तार अंसारी के नाम तीन शस्त्र लाइसेंस जारी किये जाने के मामले में तत्कालीन प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका की जांच भी कराई जा रही है।

पढ़ें…

कृष्णानन्द राय हत्याकांड: मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी बरी

बांदा जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी का नया ठिकाना पंजाब की रोपड़ जेल

मुख्तार अंसारी की जमानत खारिज, आज़म व उनके बेटे के खिलाफ गिरफ्तारी वारण्ट जारी

डीजीपी ने दिए निर्देश: 

डीजीपी के निर्देश पर मुख्तार अंसारी, बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद व कई अन्य बाहुबलियों व उनके करीबियों को जारी शस्त्र लाइसेंसों की जांच कराई जा रही है।

गृह विभाग भी इस मामले में जानकारियां इकट्ठा करा रहा है।

दो दशक में बनवाये गये शस्त्र लाइसेंसों की सिलसिलेवार पड़ताल का निर्देश दिया गया है।

पता लगाया जा रहा है कि किन मामलों में अपराधिक मुकदमों की सूचनाएं छिपाकर किन अधिकारियों की मदद से शस्त्र लाइसेंस हासिल किये गये।

किन असलहों का उपयोग आपराधिक घटनाओं में किया गया। जल्द इन लाइसेंसों को निरस्त कराने की प्रक्रिया शुरू किये जाने की तैयारी है।