लाश को रखकर 2 घंटे तक किया राष्ट्रीय राजमार्ग जाम, इस अल्टीमेटम पर हटा जाम

जमकर-मारपीट मौत

अमेठी. पुलिस की कार्यशैली से नाराज ग्रामीणों ने बुधवार को रायबरेली सुल्तानपुर राजमार्ग स्थित फुरसतगंज थाना क्षेत्र के तेंदुआ चौराहे पर शव रखकर प्रदर्शन किया। क़रीब दो घंटे तक राज्यमार्ग अवरूद्ध रहा प्रदर्शन कारी चौकी प्रभारी मदनपाल को बर्खास्त करते हुए उन पर हत्या दर्ज करने का मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रहे थे। सूचना पर कई थानों की फोर्स मौके पर लगा दी गई और पुलिस क्षेत्राधिकारी राजकुमार सिंह तथा उप जिलाधिकारी तिलोई सुनील कुमार त्रिवेदी लगातार दो घंटे तक मृतक के परिजनों को मनाने में जुटे रहे किंतु मृतक के परिजन टस से मस नहीं हो रहे थे। अंत में लगभग 2 घंटे के उपरांत परिवारीजनों के द्वारा एसडीएम तिलोई से वार्ता के उपरांत इस शर्त पर लाश को उठाया गया कि कल दोपहर 12:00 बजे तक मदनपाल की बर्खास्तगी का आर्डर तथा मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी हो जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें….समितियों के गठन के लिए भाजपा नेता मण्डलों में प्रवास करेंगे

ये था मामला

अमेठी जनपद के जायस थाना क्षेत्र के फतेपुर मवैया गांव में निवास करने वाले शमशेर सिंह के छोटे भाई की लड़की की शादी पिछले 6 दिसंबर को थी जिसकी विदाई 7 दिसंबर को हुई और जिसमें आई हुई तमाम महिलाएं शौच के लिए बाहर गई हुई थी वापस आते समय गांव के ही कुछ अनुसूचित जाति के लोगों ने शराब पीकर महिलाओं के साथ अभद्रता की। जिसमें सूचना देने पहुंचे परिजनों की तहरीर बहादुरपुर चौकी प्रभारी मदनपाल के द्वारा फाड़कर फेंकने का आरोप लगाया गया है इसी के साथ परिजनों ने यह भी आरोप लगाया है कि मदन पाल के द्वारा उक्त अनुसूचित जाति के लोगों को मारपीट करने के लिए उकसाया गया उनसे कहा गया कि जब मारपीट करोगे तभी तुमको ₹70000 प्राप्त होंगे ।

पुलिस द्वारा इस प्रकरण को गंभीरता से नहीं लिया गया जिसके चलते 8 दिसंबर को पुनः दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई । जिसमें शमशेर सिंह बुरी तरह से घायल हो गए जिनको तत्काल इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फुरसतगंज ले जाया गया जहां से प्राथमिक उपचार के बाद लखनऊ के ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया कल 10 दिसंबर को लखनऊ के ट्रामा सेंटर में इलाज के दौरान शमशेर सिंह की मौत हो गई ।

ये भी पढ़ें….बेटी का ‘नागरिकता’ रखा है नाम, इसके होने से मिली हिंदुस्तानी होने की पहचान

ये है अल्टीमेटम

पुलिस प्रशासन मृतक के गांव में तैनात रहेगी अगर कल 12:00 बजे तक यह कार्यवाही नहीं होती है तो लाश को जनपद मुख्यालय गौरीगंज में रखकर धरना प्रदर्शन किया जाएगा। परिवारीजनों द्वारा दिए गए अल्टीमेटम के बाद राष्ट्रीय राजमार्ग का जाम खुला और लाश को लेकर परिजन घर गए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App