×

बड़ी लापरवाही: महिला ने बीच सड़क पर दिया बच्चे को जन्म, लाचार स्वास्थ्य विभाग

शिकोहाबाद कस्बे के मेन रोड पर चिलचिलाती धूप में एक प्रसूता किरण ने सड़क के किनारे नवजात को जन्म दिया। सड़क पर हुई इस डिलीवरी से स्वास्थ्य विभाग की पोल खुल गई

Aradhya Tripathi
Published on: 8 May 2020 7:38 AM GMT
बड़ी लापरवाही: महिला ने बीच सड़क पर दिया बच्चे को जन्म, लाचार स्वास्थ्य विभाग
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

फिरोजाबाद: यूपी के फिरोजाबाद शिकोहाबाद कस्बे के मेन रोड पर चिलचिलाती धूप में एक प्रसूता किरण जो थाना मक्खनपुर इलाके के गांव नगला बाजदार की रहने वाली है। उसने सड़क के किनारे नवजात को जन्म दिया। सड़क के किनारे इस तरह से हुई डिलीवरी ने स्वास्थ्य विभाग के अच्छे इंतजामों की पोल खोल दी। प्रसूता के परिजन की मानें तो वह पहले हॉस्पिटल गए थे। वहां से उहें अल्ट्रासाउंड के लिए कह दिया। जब वह अल्ट्रासाउंड के प्रसूता को लेके आए तो सब बंद मिला और उसकी मामी की डिलीवरी हो गई।

बीच सड़क पर दिया बच्चे को जन्म

दरअसल प्रसूता किरण ने कल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में खुद को चेक कराया था। डॉक्टर का कहना था कि अभी डिलीवरी 1 माह बाद होनी है और उन्होंने बड़े अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। इस बीच ही आज जब दोपहर लगभग 10 बजे महिला को उसका भांजा योगेश अल्ट्रासाउंड के लिए लाया तो वहां बंद मिला।

ये भी पढ़ें- WhatsApp की नई दुनिया: तुरंत एडमिशन स्कूल में, क्लास और कॉपी-पेन भी

फिर वह महिला को एक दूसरी जगह ले गया वहां भी बंद मिला। इसी बीच प्रसव पीड़ा हुई और इसको सड़क पर ही बच्चे को जन्म देना पड़ा। हालात इस तरह से थी वहीं पड़ोस की महिलाएं इकट्ठे होकर आ गई और उन्होंने ही इस बच्चे का प्रसव कराया। जिसके बाद हड़कंप मच गया।

सामने आई स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही

जिसके बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में एसडीएम नरेंद्र कुमार पहुंचे तथा एंबुलेंस आई। अब यहां भी हद दर्जे की लापरवाही देखने को मिली। एंबुलेंस तो आ गई लेकिन उस महिला को जिसने चंद मिनट पहले ही यह बच्चे को जन्म दिया था। लोगों ने हाथों में उठा कर ही एंबुलेंस में बैठाया। यहां तक कि एंबुलेंस में स्ट्रेचर तक इंतजाम भी नहीं थे। इस महिला व उसके बच्चे को अब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शिकोहाबाद में भर्ती कराया गया है।

ये भी पढ़ें- इन वैक्सीन से होगा कोरोना का खात्मा, लक्ष्य के हैं बेहद करीब

जहां ईश्वर की कृपा से बच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ हैं। लेकिन इस तरह से सड़क पर बच्चे का जन्म होना भी अपने आप में स्वास्थ्य विभाग की कमियों को तो उजागर करता ही है। इस बीच प्रसूता के भांजे योगेश कुमार ने कहा कि कल हम इसको लेकर हॉस्पिटल गए थे। वहां बड़े अस्पताल के लिए रेफर कर दिया कि इसका अल्ट्रासाउंड करा दो आज अल्ट्रासाउंड कराने आए तो वह भी बंद मिला। इसलिए सड़क के किनारे ही बच्चा पैदा हो गया है लड़का हुआ है।

बृजेश राठौर

Aradhya Tripathi

Aradhya Tripathi

Next Story