बड़ी खबर: अब कर पाएंगे राम लला के दर्शन, करना होगा इन नियमों का पालन

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में रामलला के दर्शन श्रद्धालुओं को कल से करने को मिलेगा। जिसके लिए राम जन्म भूमि तीर्थ ट्रस्ट के पदाधिकारी स्थानीय स्तर पर व्यवस्थाओं को अमलीजामा पहना रहे हैं।

अयोध्या: उत्तर प्रदेश के अयोध्या में रामलला के दर्शन श्रद्धालुओं को कल से करने को मिलेगा। जिसके लिए राम जन्म भूमि तीर्थ ट्रस्ट के पदाधिकारी स्थानीय स्तर पर व्यवस्थाओं को अमलीजामा पहना रहे हैं। कोरोना महामारी के बीच श्रद्धालुओं को सुगम गर्भ गृह में दर्शन कराने के लिए इंतजाम शुरू हो गया है। जिसमें लगभग 300 मीटर लंबाई में शारीरिक दूरी बनाकर श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए जाना पड़ेगा।

ये भी पढ़ें:23 जुलाई से परीक्षा कराने की तैयारी में है लखनऊ विश्वविद्यालय

प्रदेश की योगी सरकार आगामी आठ जून से धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं को जाने के लिए छूट नियम कानून के तहत प्रदान कर रही है। उसी श्रृंखला में अयोध्या के श्री राम जन्मभूमि परिसर में गर्भ ग्रह पर श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। जिसके लिए श्रद्धालुओं को रंगमहल से होकर जाना पड़ेगा । जहां पर नगर निगम द्वारा शारीरिक दूरी का ख्याल रखते हुए पेंट से गोले का निर्माण कराया जा रहा है जिसमें श्रद्धालु खड़े होकर शारीरिक दूरी का पालन करेंगे।

देश में कोरोना जैसी बीमारी के कारण लॉकडाउन घोषित कर दिया गया था। उसके पूर्व अयोध्या में राम मंदिर बनाने का निर्णय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिया जा चुका था और यहां राम मंदिर निर्माण की गतिविधियां शुरू हो गई थी। लेकिन लॉकडाउन के कारण सभी गतिविधियां ठप हो गई थी। तभी उसी बीच रामलला को अस्थाई गर्भ गृह में स्थापित कर स्वयं प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूजा अर्चना कर राम के प्रति अपनी आस्था प्रकट की थी। परंतु तब से आम श्रद्धालु रामलला का दर्शन नहीं कर पा रहे थे। अब देश अनलॉक फर्स्ट की तरफ बढ़ रहा है और धार्मिक गतिविधियां शुरू हो रही है। जबकि राम मंदिर जन्मभूमि परिसर पर भूमि का समतलीकरण का कार्य चल रहा है। उस समतलीकरण में मंदिर के अवशेष पत्थर आदि निकल रहे हैं। फिलहाल ट्रस्ट राम मंदिर निर्माण की तरफ धीरे-धीरे अग्रसर हो रहा है।

ये भी पढ़ें:तेजस्वी और तेजप्रताप के साथ मां राबड़ी ने थाली पीटकर शाह की रैली का जताया विरोध

इसी के साथ जनपद के प्रमुख धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की गतिविधियां तेज होगी। जिसमें अयोध्या का हनुमानगढ़ी कनक भवन, नाका हनुमानगढ़ी, छोटी देवकाली, बड़ी देवकाली, मरी माता सहित सभी जगहों पर सरकार के नियम कानून के अंदर श्रद्धालुओं को पूजा अर्चना कराने के लिए तैयारियां की जा रही है।

नाथ बख्श सिंह

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।