Top

NRC बिल: मौलाना यासूब अब्बास बोले शक के दायरे में आते हैं मोदी जी

आल इंडिया शिया पर्सनल ला बोर्ड के राष्ट्रीय प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने नागरिक सुरक्षा विधेयक को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला बोला है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 13 Dec 2019 9:55 AM GMT

NRC बिल: मौलाना यासूब अब्बास बोले शक के दायरे में आते हैं मोदी जी
X
NRC बिल: मौलाना यासूब अब्बास बोले शक के दायरे में आते हैं मोदी जी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

असगर

अमेठी: आल इंडिया शिया पर्सनल ला बोर्ड के राष्ट्रीय प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने नागरिक सुरक्षा विधेयक को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बड़ा हमला बोला है। मीडिया से बात करते हुए यासूब अब्बास ने कहा कि एक तरफ मोदी जी सबका साथ सबके विकास की बात कर रहे हैं दूसरी तरफ ये बात हो रही है। तो कहीं न कहीं शक के दायरे में आते हैं। वो यहां जिले के मुसाफिरखाना स्थित वसी हैदर पब्लिक स्कूल के 10 वें वार्षिकोत्सव समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए।

प्रधानमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से मुलाकात की कही बात

मीडिया से बात करते हुए मौलाना ने आगे कहा कि एनआरसी में शिया समुदाय को नहीं जोड़ा गया है, हमने मांग की थी लेकिन कोई जवाब नहीं आया। ऐसे में हम मशवरा कर रहे हैं और कोर्ट जाने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आल इंडिया शिया पर्सनल ला बोर्ड ने एनआरसी बिल पर सरकार से पुनर्विचार की अपील की थी। लेकिन सरकार ने उसे पास कर दिया। अब हम इस सिलसिले में प्रधानमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से बहुत जल्दी मुलाकात करने वाले हैं।

यह भी पढ़ें: भैंस से हार गया पाकिस्तान: आखिर कैसे करेगा भारत का सामना?

टीएन सेशन ने लागू किया वोटर आईडी कार्ड तब मिली पहचान

जहां तक नागरिकता की बात है हम हिंदुस्तान में रहते हैं हम कहां तक सबूत देते फिरें इतनी अवेयरनेस नहीं थी उस समय। टीएन सेशन ने आकर जब वोटर आईडी लागू की उसके बाद से लोगों को पहचान पत्र मिला है। वरना हमारे पास अपनी पहचान के लिए जो लोग विदेश जाते थे उनके पास सिवाए पासपोर्ट और राशन कार्ड के कुछ नही था। लिहाजा हम कहां से बताएंगे न इतनी अवेयरनेस था न कुछ था किसी को कल का पता नहीं था एक ऐसा कानून आएगा।

यह भी पढ़ें: चौंकाने वाली रिपोर्ट: यहां के हर 5वें घर में कैंसर का एक मरीज, 35 लोगों की मौत

Shreya

Shreya

Next Story