खुदाई में मिली ऐसी चीजों को देख हैरान रह गये लोग, सरकार को भेजी रिपोर्ट

यूपी के पीलीभीत से बड़ी खबर आ रही है। यहां जंगलों के बीचों बीच इलाहाबाद देबल के देवस्थल में खुदाई के दौरान मूर्तियां और 11वीं शताब्दी के शिलालेख मिले हैं। इसकी रिपोर्ट पुरातत्वविदों ने केंद्र सरकार को भेज दी है।

पीलीभीत: यूपी के पीलीभीत से बड़ी खबर आ रही है। यहां जंगलों के बीचों बीच इलाहाबाद देबल के देवस्थल में खुदाई के दौरान मूर्तियां और 11वीं शताब्दी के शिलालेख मिले हैं। इसकी रिपोर्ट पुरातत्वविदों ने केंद्र सरकार को भेज दी है।

जानकारी के मुताबिक जंगल के बीच स्थित बीसलपुर तहसील में इलाहाबाद देबल गांव में प्रसिद्ध प्राचीन देव स्थल मंदिर है। यहां हर साल बड़ा मेला लगता है। मंदिर के आसपास ग्रामीणों को खुदाई के दौरान खेतों में मूर्तियां और शिलालेख प्राप्त हो रहे हैं। वहीं मंदिर के गर्भ गृह में बना टीला भी अपने में रहस्य छुपाए हुए है।

मंदिर के गर्भगृह के रहस्य के बारे में बीते 2 वर्षों से अध्ययन कर रहे शिवम ने पत्र लेखन के माध्यम से जिला प्रशासन को पुरातत्व से जुड़े इस मंदिर के बारे में अवगत कराया।

शासन से संज्ञान लेने के बाद बीते दिनों आगरा की पुरातत्व विभाग की टीम ने देव स्थल पर आकर खुदाई में मिली खजुराहो जैसी मूर्तियों व मिली शिलालेखों के बारे में ग्रामीणों से बात की।  शुरुआती जानकारी के अनुसार ये 11वीं शताब्दी के अवशेष हैं।

ये भी पढ़ें…कुतिया माता मंदिर: इस टेंपल का इतिहास आपको कर देगा परेशान

ग्रामीणों ने कही ये बड़ी बात

ग्रामीणों को आशा है कि इस मंदिर के गर्भ गृह के रहस्य से पीलीभीत को नई ख्याति मिलेगी। बहुत जल्द शोध के बाद पीलीभीत में दक्षिण भारत के राजा से जुड़ी कहानी को पूरे प्रदेश में जाना जाएगा।  स्थानीय निवासी कहते कि बीते कई वर्षों से उनके गांव से लेकर दूर-दूर से लोग यहां आते हैं।

ये मंदिर कुल देवी के मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है, जहां हर मनोकामना पूर्ण होती है।  हर वर्ष मेले का आयोजन होता है।  बीते दिनों पुरातत्व सर्वेक्षण की टीम ने यहां आकर खोजबीन कर जांच पड़ताल की।

ग्रामीणों ने बताया कि यहां खेतों की जुताई के समय कई बार मूर्तियां मिलीं, जिन्हें मंदिर में रख दिया जाता है। बीते दिनों खेतों में टीले की खुदाई में भी नटराज भगवान की मूर्तियां मिली हैं।

ये भी पढ़ें…श्रापित इस मंदिर में जो करता है यहां ये काम, सो जाता है मौत नींद, जानिए वजह

मंदिर से जुड़ीं कई दिलचस्प मान्यताएं

मंदिर में लगे शिला पट के बारे मे भी अजीबोगरीब धारणा है।  लोगों का मानना है कि जो भी इस शिला लेख को पढ़ लेगा, उसे खजाने का रास्ता मिल जायेगा।  कुछ लोगों ने उसे पढ़ने की कोशिश भी की। मान्यता है कि जिसने भी इसे पढ़ा, वह पागल हो गया।

ये भी पढ़ें…यात्रा वृत्तान्त : आस्था का ऐतिहासिक मंदिर ‘स्वर्गद्वारी’