Top

पीएम मोदी ने प्रदेश के इस जिले की करी तारीफ, कही ये बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेडियो पर मन की बात कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में बाराबंकी जिले का जिक्र करते हुए कहा कि यहां बाहर से लौटे मजदूरों ने क्वॉरेंटाइन में रहते हुए कल्याणी नदी का प्राकृतिक रूप लौटाया है।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 28 Jun 2020 11:56 AM GMT

पीएम मोदी ने प्रदेश के इस जिले की करी तारीफ, कही ये बात
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रेडियो पर मन की बात कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में बाराबंकी जिले का जिक्र करते हुए कहा कि यहां बाहर से लौटे मजदूरों ने क्वॉरेंटाइन में रहते हुए कल्याणी नदी का प्राकृतिक रूप लौटाया है। उन्होंने कहा कि अच्छे लोग आपदा में भी अपना मूल स्वाभाव नहीं छोड़ते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि नदी का उद्धार होता देख आस-पास के किसान और आस-पास के लोग भी उत्साहित है।

ये भी पढ़ें:तड़प-तड़प कर मौत: जमीन में जिंदा दफन हो गए बेचारे, राहत बचाव कार्य जारी

गांव में आने के बाद क्वारंटीन केंद्र में रहते हुए, आइसोलेशन केंद्र में रहते हुए हमारे श्रमिक साथियों ने जिस तरह अपने कौशल्य का इस्तेमाल करते हुए अपने आस-पास की स्थितियों को बदला है वो अद्भुत है। वहीं पीएम मोदी द्वारा प्रशंसा किये जाने से जिले के आलाधिकारियों का उत्साह काफी बढ़ा है।

डीसी मगरेगा एनके द्विवेदी ने बताया

डीसी मगरेगा एनके द्विवेदी ने बताया कि पीएम मोदी द्वारा जो कल्याणी नदी के पुनरुद्धार को लेकर प्रशंसा की गई है उससे हम सभी लोगों का उत्साह काफी बढ़ा है। कल्याणी नदी का काम बाराबंकी के विकासखंड फतेहपुर के दो ग्राम पंचायतों मवइया और हैदरगंज में कराया जा रहा है। ग्राम पंचायत मवइया में नदी का काम लॉकडाउन के पहले मार्च में शुरू हुआ था। जबकि हैदरगंज में यह काम लॉकडाउन के दौरान मई महीने में शुरू कराया गया था।

ये भी पढ़ें:समुचित हो चिकित्सा व्यवस्था, अन्य बीमारियों के इलाज हेतु की जाए ये काम

उन्होंने बताया कि मवइया में लगभग 30 हजार मानव दिवस 2.6 किलोमीटर और हैदरगंज में लगभग 13 हजार मानव दिवस से 1.5 किलोमीटर नदी का काम कराया जाना था। शुरू में ऐसा लग रहा था कि इतनी ज्यादा श्रम शक्ति और संसाधनों को लेकर हमें दिक्कतें आएंगी, लेकिन प्रवासी और स्थानीय श्रमिकों ने इस चुनौती को स्वीकार किया और उत्साह से काम को पूरा भी किया। इस पूरे काम में जिलाधिकारी समेत जिले के तमाम आलाधिकारी ने काफी मेहनत की।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story