काशीवासियों को PM मोदी की ये सौगातें, दिए करोड़ों के तोहफे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी के दौरे पर जंगमवाड़ी मठ पहुंच कर ‘सिद्धार्थ सीखवाणी ग्रंथ’ का 19 भाषाओं में रूपांतरण का विमोचन किया और एप का लॉन्च किया।

Published by Shivani Awasthi Published: February 16, 2020 | 1:23 pm
Modified: February 16, 2020 | 4:39 pm

PM Narendra Modi in Varanasi LIVE Updates

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को वाराणसी के दौरे पर हैं। यहां पीएम ने जंगमवाड़ी मठ पहुंच कर ‘सिद्धार्थ सीखवाणी ग्रंथ’ का 19 भाषाओं में रूपांतरण का विमोचन किया और एप का लॉन्च किया। इसके बाद उन्होंने दीन दयाल पार्क पहुंच कर कई परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलन्यास किया। इस मौके पर उन्होंने जन सभा को संबोधित भी किया। बता दें कि पीएम मोदी ने आज वाराणसी के एक दिवसीय दौरे पर काशी वासियों को 12 हजार करोड़ की सौगात दी है।

शताब्दी समारोह में शामिल हुए पीएम, किया एप लांच:

जंगमवाड़ी मठ पहुंच कर पीएम मोदी ने ‘सिद्धार्थ सीखवाणी ग्रंथ’ का 19 भाषाओं में रूपांतरण का विमोचन किया। इसके साथ ही एक एप को भी लॉन्च किया। इस मौके पर सीएम योगी, गवर्नर आनंदी बेन पटेल समेत कई लोग शामिल रहे।इस दौरान उन्होंने जनसभा को संबोधित किया।

मैं काशी का जनप्रतिनिधि हूं और यहां आकर संतों का आशीर्वाद लेने का मौका मिला है।

ये भी पढ़ें: ताजपोशी के बाद केजरीवाल ने PM मोदी से मांगा आशीर्वाद, कहा-मैं सबका CM

वीर शब्द को अधिकतर लोग वीरता से जोड़ते हैं, लेकिन वीरशैव परंपरा वो परंपरा है जिसमें वीर शब्द को आध्यात्मिक अर्थ से परिभाषित किया गया है। जो विरोध की, वैर की भावना से ऊपर उठ गया है, वही वीरशैव है।

हमारे यहां राष्ट्र सत्ता से नहीं, संस्कृति एवं संस्कारों से सृजित हुआ है। यहां रहने वाले लोगों के सामर्थ्य से बना है।

भारत की सही पहचान को भावी पीढ़ी तक पहुंचाने का दायित्व हम सभी पर है। गुरुओं, संतों और विद्वानों पर भी है।

देश सिर्फ सरकार से नहीं बनता, एक-एक नागरिक के संस्कार से बनता है। एक नागरिक के रूप में हमारा आचरण की भारत का भविष्य तय करेगा।

सरकार का प्रयास है कि संस्कृत सहित सभी भारतीय भाषाओं का विस्तार हो, युवा पीढ़ी को उसका लाभ मिले।

ये भी पढ़ें: शाहीन बाग़ प्रदर्शनकारियों की शाह से मुलाकात आज: प्रतिनिधिमंडल में ये है शामिल

पीएम ने कहा कि भक्ति से मुक्ति का मार्ग दिखाने वाले इस दर्शन को भावी पीढ़ी तक पहुंचना चाहिए। एक App के माध्यम से इस पवित्र ज्ञानग्रंथ का डिजिटलीकरण युवा पीढ़ी के जुड़ाव को और बल देगा, उनके जीवन की प्रेरणा बनेगा।

दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा का किया अनावरण, कई परियोजनाओं का लोकार्पण:

इसके बाद वह चंदौली में दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्थल के लिए रवाना हो गये। पीएम मोदी ने वाराणसी के लिए कई परियोजनाओं की सौगात दी है। वहीं रैली को संबोधित किया। जिसमें पचास हजार लोग शामिल हुए। इस कार्यक्रम में कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा भी मौजूद हैं।

ये भी पढ़ें: आरक्षण पर मायावती की बड़ी मांग: SC-ST-OBC के लिए कही ये बात