रणजीत बच्चन हत्याकांड में STF की मदद से पुलिस ने 3 को दबोचा

रणजीत बच्चन की हत्या का खुलासा करने में लखनऊ पुलिस ने जमीन-आसमान एक कर दिया है। ऐस माना जा रहा है कि उसके पास हत्यारों के बारे में अहम सुराग लग गए हैं, जिसके आधार पर ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। हत्या का खुलासा करने में लखनऊ पुलिस ने एसटीएफ की मदद भी ली है।

गोरखपुर: लखनऊ में रविवार की सुबह मार्निंग वॉक के दौरान हुई रणजीत बच्चन की हत्या हो गयी थी। रणजीत बच्चन विश्व हिन्दू महासभा के अध्यक्ष हत्याकांड का खुलासा करने में लखनऊ पुलिस ने एसटीएफ की भी मदद ली है। बताया जा रहा है कि एसटीएफ ने गोरखपुर से तीन लोगों को दबोचा है और उनसे गुप्त स्थान पर पूछताछ हो रही है। ये तीनों रणजीत बच्चन से जुड़े हुए थे और साइकल यात्रा में भी शामिल रहे हैं। एक स्कूल संचालक की तलाश जारी है लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिल सका है।

हत्त्यारों की तलाश में पुलिस ने किया जमीन-आसमान एक

रणजीत बच्चन की हत्या का खुलासा करने में लखनऊ पुलिस ने जमीन-आसमान एक कर दिया है। ऐस माना जा रहा है कि उसके पास हत्यारों के बारे में अहम सुराग लग गए हैं, जिसके आधार पर ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। हत्या का खुलासा करने में लखनऊ पुलिस ने एसटीएफ की मदद भी ली है।

ये भी देखें : लव जिहाद पर केंद्र सरकार ने संसद में दिया ये बड़ा बयान, जानें पूरा मामला

बता दें कि हिरासत में लिए गए तीनों लोगों में से एक शख्स ठेका वगैरह मैनेज कराया करता था। उससे रणजीत से लेनदेन भी चलता था। लखनऊ में सीसीटीवी फुटेज में जिस शख्स का चेहरा नजर आ रहा है, एक आरोपी की शक्ल उससे मिलती जुलती है। हालांकि उसने घटना वाले दिन गोरखपुर में रहने के सबूत दिए हैं। दूसरे के बारे में बताया जा रहा है कि वह रियल एस्टेट का कारोबार करता है। एसटीएफ इन लोगों से एक स्कूल संचालक के बारे में जानकारी ले रही है लेकिन अभी तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है।

क्या हत्याकांड में ‘गोरखपुर कनेक्शन’ है ?

रणजीत बच्चन हत्याकांड में लखनऊ पुलिस की जांच ‘गोरखपुर कनेक्शन’ की तलाश पर टिकी हुई है। पुलिस का मानना है कि रणजीत और पत्नी कालिंदी दोनों ही गोरखपुर के हैं। गोरखपुर में दोनों ने लंबा समय बिताया इसलिए यहां उसके संबंध ज्यादा हैं। कामकाज में भी वह गोरखपुर का इस्तेमाल किया करता था और यहां के ज्यादा लोग भी उससे जुड़े हुए थे। इसलिए हत्याकांड का कनेक्शन भी गोरखपुर से जुड़ा हो सकता है। इसी गोरखपुर कनेक्शन को तलाश करने में एसटीएफ को लगाया गया है।

स्कूल संचालक की तलाश

लखनऊ पुलिस और एसटीएफ का मानना है कि जिस स्कूल संचालक की तलाश हो रही है, अगर वह हत्थे चढ़ जाए तो हत्यकांड की कड़ियां जुड़ सकती हैं। स्कूल संचालक के बारे में पुलिस के पास जो इनपुट है उसके मुताबिक 2016 में उसका विवाह हुआ था। उसमें विवाद से इस हत्याकांड का कोई न कोई जुड़ाव हो सकता है। वह पकड़ में आ जाए तो बहुत से सवालों के जवाब मिल सकते हैं।

ये भी देखें : CM योगी का बड़ा ऐलान: यूपी में उड़ेंगे हिंदुस्तान एयरोनेटिक्स के निर्मित विमान

नाजायज रिश्ते और लेनदेन के मामले पर नजर

एसटीएफ की जांच के केन्द्र में दो ही पहलू हैं, सेक्स और लेनदेन। एसटीएफ का मानना है कि प्रथम दृष्टया यही लग रहा है कि हत्या के पीछे यहां तो सेक्स है या फिर बड़ा लेनदेन। चूंकि ठेकेदार सनी भारती का ठेका वगैरह वह मैनेज कराता था, इसलिए हो सकता है कि इसे लेकर कोई विवाद हुआ हो।

दूसरी तरफ रणजीत के अतीत को देखते हुए सेक्स से जुड़ा मामला भी एसटीएफ दरकिनार नहीं कर रही है। पत्नी कालिंदी और घायल भाई आदित्य के अतीत व वर्तमान को भी खंगाला जा रहा है। एसटीएफ मोबाइल और सोशल मीडिया अकाउंट को भी खंगालने में जुटी हुई है।