Top

निर्माण परियोजनाओं में लगवायें कैमरा, एक्सेस बोर्ड को उपलब्ध कराने का निर्देश

पिछले साल अक्टूबर-नवंबर माह में धुंध और प्रदूषण के कारण जहरीली हुई हवा आपको अभी भी याद होगी। यूपी में फिर से यह जहरीली हवा न फैले इसके लिए यूपी के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 23 Sep 2020 8:57 AM GMT

निर्माण परियोजनाओं में लगवायें कैमरा, एक्सेस बोर्ड को उपलब्ध कराने का निर्देश
X
निर्माण परियोजनाओं में लगवायें कैमरा, एक्सेस बोर्ड को उपलब्ध कराने का निर्देश (socia media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: पिछले साल अक्टूबर-नवंबर माह में धुंध और प्रदूषण के कारण जहरीली हुई हवा आपको अभी भी याद होगी। यूपी में फिर से यह जहरीली हवा न फैले इसके लिए यूपी के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है। बोर्ड ने वायु प्रदूषण नियंत्रण सुनिश्चित करने के लिए यूपी के 16 शहरों को नोटिस भेज कर निर्देश दिया है कि इन शहरों में सभी निर्माण परियोजनाओं से संबंधित इकाइयां राज्य स्तरीय एअर क्वालिटी मानीटरिंग कमेटी के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन करे और अपनी इकाइयों में डस्ट कंट्रोल के लिए किए गए प्रयासों को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पोर्टल पर आगामी 10 अक्टूबर तक अपलोड करे। इसके साथ ही पर्यावरण विभाग से मंजूरी पायी सभी निमार्ण परियोजनाओं में पैन टिल्ट जूम कैमरा लगवा कर उसकी एक्सेस प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को उपलब्ध कराये।

ये भी पढ़ें:रिलायंस रिटेल में केकेआर करेगा ₹ 5,550 करोड़ का निवेश

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जिन शहरों को यह निर्देश जारी किए है

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जिन शहरों को यह निर्देश जारी किए है उनमे लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज, आगरा, गाजियाबाद, नोएडा, खुर्जा, गजरौला, अनपरा, मुरादाबाद, फिरोजाबाद, बरेली, रायबरेली, झांसी तथा मेरठ शामिल है।

pollution pollution (social media)

यूपी की राजधानी लखनऊ में तो लोग शहर में उड़ती धूल से परेशान है

यूपी की राजधानी लखनऊ में तो लोग शहर में उड़ती धूल से परेशान है और एयर क्वॉलिटी इतनी खराब हो चुकी है कि उनको सांस लेना भारी पड़ रहा है। इसी क्रम में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने पिछले दिनों शहर के गोमतीनगर, हुसैनगंज, आलमबाग, लोहिया पथ, पत्रकारपुरम, रिंग रोड, इंदिरानगर सहित कई इलाकों में जांच कराई। जांच रिपोर्ट में सामने आया कि लखनऊ के प्रदूषण में लगभग 80 प्रतिशत योगदान सड़कों की धूल का है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नगर निगम और एनएचआई को भेजी अपनी रिपोर्ट में कहा कि दिन भर में हजारों गाड़ियों के आवागमन और खराब सड़कों की वजह से उड़ रही धूल प्रदूषण का सबसे बड़ा हिस्सा है।

ये भी पढ़ें:प्रभावशाली व्यक्तित्व: पीएम मोदी तो बिल्किस दादी भी, TIME मैग्जीन की लिस्ट में

ब्ता दे कि बीते अक्टूबर माह से दिसंबर माह तक यूपी के कई शहरों में वायु प्रदूषण बहुत बढ़ गया था। इस दौरान केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट में कहा गया था कि यूपी के 09 शहरोे में वायु प्रदूषण की स्थिति काफी खराब है। इन शहरों में वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से ज्यादा पाया गया था। इससे जहां लोग बीमार पड़ने लगे थे तो कई-कई दिन तक सूरज के दर्शन भी नहीं होते थे।

मनीष श्रीवास्तव

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story